• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Ara
  • Positive Talks Between MLA And DEO For Construction Of Plus Two School Building, Ultimatum To Make Temporary Classroom In Seven Days

प्लस टू विद्यालय:विधायक व डीईओ के बीच प्लस टू विद्यालय के भवन निर्माण के लिए हुई सकारात्मक वार्ता, सात दिनों में अस्थायी कक्षा बनाने का अल्टीमेटम

आरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विधायक के साथ डीईओ ने बैठक किया। - Dainik Bhaskar
विधायक के साथ डीईओ ने बैठक किया।

प्लस टू विद्यालय, कोईलवर के लिए भूमि आवंटन व भवन नवनिर्माण के लिए इनौस के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह अगिआंव के विधायक मनोज मंजिल ने शनिवार को खेल मैदान पर अभिभावक व छात्रों के साथ बैठक किया। इसके बाद बच्चों के साथ डीएम रोशन कुशवाहा से मिलने आरा चले गये।

विधायक व छात्र-छात्रा खुशी, दुर्गावती, सुनीता, विधारानी, सीता, नेहा, बिमलेश, प्रकाश, आदित्य राज, आशीष, रितेश, अभिषेक ने डीएम से मिलकर जल्द से जल्द अस्थायी विद्यालय में पढाई शुरू कराने की मांग की। छात्रों ने कहा कि विद्यालय के जमींदोज हुए दो साल से ज्यादा बीत गए।

शनिवार से स्कूल खुल गए लेकिन जिस मिडिल स्कूल में मॉर्निंग शिफ्ट में विद्यालय चलता था। वहां अब पुलिस जवान को रखा गया है। अब उनके पठन-पाठन के लिए अपना विद्यालय होना चाहिए। जिसके बाद डीएम ने डीईओ प्रेमचंद को जल्द से पठन-पाठन शुरू करने का निर्देश दिये। डीएम का निर्देश मिलते ही डीईओ कोईलवर पहुंचे।

विधायक व डीईओ के बीच जमीन पर बैठकर हुई वार्ता
विधायक व डीईओ प्रेमचंद के बीच जमीन पर बैठकर वार्ता हुई। छात्र-छात्रा व अभिवावक भी जमीन पर बैठ गये। छात्रों ने कहा कि जब तक प्लस टू विद्यालय का अपना क्लासरूम नहीं बनता, हम सभी हड़ताल पर रहेंगे। विधायक ने कहा कि सिक्सलेन पुल के उद्घाटन के समय मंत्री व जनप्रतिनिधियों ने खुले मंच से स्कूल के लिए जमीन उपलब्ध कराने की बात कही गयी थी।

पुल उद्घाटन के डेढ़ साल हो गए, अभी तक जमीन उपलब्ध नहीं हुई। क्योंकि सरकार की मंशा ही नहीं है कि गरीब के बच्चे पढ़ें। प्लस टू विद्यालय को जमींदोज किये जाने से पहले अधिकारियों व निर्माण कम्पनी ने स्कूल प्रबंधन, छात्रों, अभिभावक स्थानीय लोगों से कोई वार्ता नहीं किया।

क्योंकि उन्हें ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने की चिंता थी। प्रशासनिक भय दिखा प्लस टू विद्यालय को ध्वस्त कर दिया, 1600 बच्चो को उनके हाल पर छोड़ दिया गया। स्कूल तोड़वाने में जो भी जिम्मेवार हो उन्हें छात्र, अभिभावकों से माफी मांगनी चाहिये। क्योंकि यह विद्यालय किसी की निजी सम्पति नहीं है। बैठक में सबीर कुमार, पप्पू कुमार, भोला यादव, नन्दजी, विष्णु ठाकुर, विशाल कुमार, अप्पू कुमार समेत दर्जनों अभिभावक, छात्र उपस्थित थे।

सात दिनों में अस्थायी पठन-पाठन की व्यवस्था करें: विधायक
विधायक मनोज मंजिल ने डीईओ से सात दिनों के अंदर तात्कालिक तौर पर वैकल्पिक व्यवस्था कर पढाई शुरू करने की मांग की। कहा कि जब तक विद्यालय के बच्चे सात दिनों तक हड़ताल पर रहेंगे। सात दिन बाद पटना-बक्सर फोरलेन सड़क पर कक्षा चलेगी। जिसके बाद डीईओ ने, इंजीनियर के साथ अस्थायी वर्ग बनाने के लिए प्लस टू विद्यालय के मैदान पर चाहरदीवारी से सटे मापी कराया। डीईओ ने प्लस टू विद्यालय के प्रधानाध्यापक से उच्च व उच्चतर माध्यमिक में फंड के बारे में जानकारी ली।

खबरें और भी हैं...