• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Ara
  • Student Organizations Protested And Created Ruckus, Protesters Entered Inside Breaking The Lock Of The Gate, Held The Vice Chancellor Hostage

वीकेएसयू:छात्र संगठनों ने किया प्रदर्शन व हंगामा, गेट का ताला तोड़ अंदर घुसे प्रदर्शकारी, प्रतिकुलपति को बनाया बंधक

आरा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में प्रदर्शन करते छात्र राजद के कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में प्रदर्शन करते छात्र राजद के कार्यकर्ता।
  • वीकेएसयू में 6 अरब 60 करोड़ 1 लाख 61 हजार 536 रुपये के घाटे का बजट पारित, सीनेट से मंजूरी

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में शुक्रवार को सीनेट की बैठक में वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 6 अरब 60 करोड़ 1 लाख 61 हजार 536 रुपये का घाटे का बजट पारित किया गया। सीनेट की बैठक ऑनलाइन हुई, जो सुबह 11 बजे से दोपहर 1:18 तक चली। लगभग 59 से ज्यादा सदस्य विभिन्न जगहों से ऑनलाइन जुड़े रहे। इस दौरान विश्वविद्यालय में आइसा, छात्र राजद व विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने हंगामा और प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी प्रशासनिक भवन के मुख्य गेट के ताला को तोड़कर अंदर घुस गए और प्रति-कुलपति सहित अन्य अधिकारियों को दो घंटे तक बंधक बनाए रखा। हालात को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा। इस बीच ऑनलाइन बैठक में वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 6 अरब 60 करोड़ एक लाख 61 हजार 536 रूपये की घाटे की बजट को मंजूरी दी गई।

राज्य सरकार के पास भेजने के लिये सहमति बनी। सदन में 6 अरब 63 करोड़ 49 लाख 41 हजार 789 रुपये का बजट प्रति-कुलपति डॉ सीएस चौधरी ने पेश किया। बजट में 5 करोड़ 22 लाख 80 हजार 253 रुपये विश्वविद्यालय की ओर से आंतरिक स्रोत से आमदनी होने का ज़िक्र किया। आतंरिक स्रोत से प्राप्त राशि को मूल बजट से घटाने के बाद 6 अरब 58 करोड़ 26 लाख 61 हजार 536 रूपया एवं शिक्षा विभाग से अपेक्षित परिनियत अनुदान की राशि एक करोड़ 75 लाख जोड़ने पर 6 अरब 60 करोड़ एक लाख 61 हजार 536 रूपये की आवश्यकता पड़ेगी। दूसरी तरफ सिंडिकेट, एकेडमिक कौसिंल, वार्षिक रिपोर्ट, भवन समिति, एफलिएशन कमेटी एवं क्रय-विक्रय समिति से पास एजेंडों पर मुहर लगी। बैठक मं सीनेट सदस्य डॉ संजय कुमार त्रिपाठी ने एचडी जैन कॉलेज के प्राचार्य डॉ शैलेंद्र ओझा एवं बर्सर डॉ नजीर अख्तर को पद से हटाने का मुद्दा उठाया। कहा कि बिना किसी शो-कॉज के जैन कॉलेज के बर्सर को कैसे पद से हटा दिया गया?

बजट पुस्तिका की मुख्य पृष्ट पर जैन कॉलेज का प्राचार्य डॉ नरेंद्र कुमार और शंकर कॉलेज सासाराम का प्राचार्य डॉ महेंद्रनाथ पांडेय का नाम दिए जाने पर आपत्ति जताया। कहा कि तब क्या डॉ शैलेंद्र ओझा सेवानिवृत्त हो चुके है। उनका नाम कहां है ? सीनेट सदस्य डॉ विनोद कुमार सिंह ने कहा कि 10 जनवरी 2020 को निर्णय के अनुसार एक वर्ष में दो बार सीनेट की बैठक होगी, परन्तु ऐसा नहीं हुआ। यदि विश्वविद्यालय प्रशासन को सीनेट की बैठक में जनवरी से पहले बजट पारित कराकर राज्य सरकार को भेजने की बाध्यता नहीं होती, तो साल में एक बार भी बैठक नहीं होती। प्रश्नावली के जरिए पूछे सवालों का निराकरण नहीं किया जाता है। प्रो डॉ दिवाकर पांडेय ने पीएचडी करने वाले शोधार्थी अपनी समस्याओं को लेकर प्रतिदिन विश्वविद्यालय के गलियारों का चक्कर काटते हैं। समस्याओं के समाधान के लिए शिकायत निवारण सेल का गठन किया जाए। ऑनलाइन बैठक में सिनेट सदस्य डॉ कुमार कौशलेंद्र, डॉ नरेंद्र पालित, डॉ मनीष रंजन, प्राचार्य डॉ आभा सिंह, डॉ नरेंद्र कुमार सहित कई शामिल थे। कुलपति प्रो डॉ केसी सिन्हा ने सदन की अध्यक्षता और धन्यवाद ज्ञापन कुलसचिव डॉ धीरेंद्र प्रसाद सिंह ने किया।

छात्र संघ चुनाव व 22 मांग के लिए आइसा ने किया हंगामा
आइसा के कार्यकर्ताओं ने 22 मांगों को लेकर प्रशासनिक भवन में हंगामा व प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते भाकपा माले के विधायक मनोज मंजिल ने कहा कि बिहार में शिक्षा को बर्बाद किया जा रहा है। सीनेट की बैठक में छात्रहित से जुड़ी बातें नहीं हो रही है। छात्र संघ चुनाव नहीं किया जा रहा है। छात्रों का कोई प्रतिनिधि सीनेट बैठक में शामिल नहीं हो सका। यह साजिश है। बाद में कुलपति डॉ केसी सिन्हा ने कार्यकर्ताओं के साथ वर्चुअल वार्ता कर छात्र संघ चुनाव, यूजी व पीजी में सीट वृद्धि, महिला छात्रावास को छात्राओं के लिए आवंटित करने सहित अन्य मांगों को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया। इस दौरान आइसा के राज्य सचिव सबीर कुमार, राज्य उपाध्यक्ष रुचि प्रिया, जिला सचिव विकास कुमार, जिलाध्यक्ष सुशील यादव, विमल कुमारी, शिव प्रकाश रंजन, पप्पू कुमार और जिला सह- सचिव कमलेश यादव सहित कई शामिल थे।

42 कॉलेजों के संबंधन पर लगी मुहर
भोजपुर, बक्सर, रोहतास व कैमूर जिले के 42 कॉलेजों के नए शैक्षणिक सत्र के लिए नवसंबंधन, दीर्घीकरण और अस्थायी संबंधन देने पर मुहर लगी। अब अनुमोदन के लिए 15 जनवरी से पहले राज्य सरकार शिक्षा विभाग को प्रस्ताव भेज दिया जाएगा। गौरतलब हो कि 53 कॉलेजों ने नव संबंधन, दीर्घीकरण और अस्थायी संबंधन के लिए आवेदन दिया था।

छात्र राजद का निजी संस्थानों में समान शुल्क के लिए प्रदर्शन
छात्र राजद ने वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय परिसर में विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। कुलानुशासक को 15 मांग का ज्ञापन सौंपा गया। वक्ताओं ने कहा कि निजी शिक्षण संस्थान स्नातक में नामांकन शुल्क के नाम पर छात्रों का आर्थिक शोषण कर रहे हैं। जिस पर संज्ञान नहीं लिया गया। प्रदर्शन में जिला पार्षद भीम यादव, संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष अरविंद यादव, अध्यक्ष सत्यजीत राज, छात्र राजद प्रधान महासचिव मोहम्मद ताहिर, पूर्व प्रदेश महासचिव रविकांत कुमार, तेजू त्यागी, मुन्ना राज, पम्मी यादव सहित अन्य थे।

विद्यार्थी परिषद ने किया बवाल
अभाविप के कार्यकर्ताओं ने 19 मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य छोटू सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन हमेशा ही छात्रों की अनदेखी करती है। सत्र नियमित सहित अन्य मुद्दों पर विश्वविद्यालय प्रबंधन ध्यान नहीं दे रहा है। प्रदर्शन में संयोजक राज पांडेय, नगर मंत्री हिमांशु रंजन, भुवन पांडे , कुमार, सूर्यमणि तिवारी ,अमन कुमार ,गोलू कुमार, समीर कुमार , विपुल कुमार, सागर दिग्विजय, राहुल राय, अभिषेक कुमार, सुजीत कुमार, अभिषेक चौधरी, चंचल मिश्रा, विवेक कुमार, विशाल कुमार, ऋतुराज चौधरी व अन्य थे।

वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट का विवरण
कुल बजट : 6 अरब 63 करोड़ 49 लाख 41 हजार 789 रु
घाटे की राशि: 6 अरब 60 करोड़ 1 लाख 61 हजार 536 रु
आंतरिक स्रोत से आमदनी : 5 करोड़ 22 लाख 80 हजार 253 रु
वेतन व पेंशन पर खर्च होने वाली राशि: 3 अरब 90 करोड़ 88 लाख 99 हजार 570 रु
बकाया भुगतान की राशि: 2 अरब 8 करोड़ 64 लाख 7 हजार 436 रु
आकस्मिकता मद की राशि : 32 करोड़ 84 लाख 14 हजार 884 रु
छात्राओं के शिक्षण शुल्कादि की क्षर्ति पूर्ति : 6 करोड़ 9 लाख 24 हजार 400 रु

खबरें और भी हैं...