पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खूनी रंजिश:ईंट भट्ठा के ऑफिस में सो रहे मुंशी को जगा कर बदमाशों ने मार दी तीन गाेलियां, मौत

आरा23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बारे में जानकारी लेती पुलिस। - Dainik Bhaskar
घटना के बारे में जानकारी लेती पुलिस।
  • प्रतिशोध में मृतक के परिजनों ने चार घंटे बाद आरोपी के भाई को मारी गोली, पटना में चल रहा इलाज

टाउन थाना क्षेत्र के धनुपरा स्थित ईंट भट्ठा के कार्यालय में तीन हथियारबंद अपराधियों ने मुंशी की गोली मार कर हत्या कर दी। मुंशी की मौत सदर अस्पताल लाने के दौरान हो गयी। मृत चिमनी मुंशी मुफस्सिल थाना क्षेत्र के पिपरहिया गांव निवासी गंगा प्रसाद का 35 वर्षीय पुत्र मंतोष कुमार सिंह है। इस घटना के तीन घंटे बाद ही मृतक पक्ष के लोगों ने गांव के ही बावनवीर यादव को सिर में गोली मार दी। जिसमें बावनवीर गंभीर रूप से जख्मी हो गया। उसे इलाज के लिए पटना रेफर कर दिया गया है। इस दौरान चिमनी भट्टी में लगे सीसीटीवी कैमरे में अपराधियों की सारी हरकत रिकॉर्ड हो गई।

सीसीटीवी फुटेज में तीन अपराधी मंतोष कुमार सिंह को मारने के लिए चिमनी भट्टा पर पहुंचते हैं। ईंट भट्ठा के ऑफिस में मंतोष सिंह और उसके साथ दो स्टाफ और सो रहे थे। अपराधी अपने एक साथी के साथ भठ्ठा पर पहुंचता है और गेट खोलकर कार्यालय में पहुंच जाता है। गहरी नींद में सो रहे मंतोष सिंह को एक अपराधी जगाता है मंतोष सिंह के जगते ही उसे तीन गोलियां मार देता है।

मृतक को एक गोली सीने में दाहिने साइड लगते हुए आर-पार हो गई। इसके अलावे उसके दोनों हाथ के कलाई पर भी गोली लगी है। इस घटना की सूचना मंतोष सिंह के साथ सो रहे दो कर्मियों ने सदर अस्पताल में बतायी। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और तफ्तीश में जुट गई।

मामले में दोनों पक्षों ने करायी एफआईआर
घटना की सूचना मिलने के बाद सदर एसडीपीओ पंकज कुमार रावत, टाउन थाना के प्रभारी इंस्पेक्टर शंभु कुमार भगत, नवादा थाना इंस्पेक्टर संजीव कुमार एवं मुफस्सिल थाना इंस्पेक्टर अनिल कुमार सदर अस्पताल पहुंचे और मामले की जानकारी ली। सदर एसडीपीओ पंकज रावत ने बताया कि दोनों पक्षों के तरफ से एफआईआर दर्ज करायी है।

मृतक के पक्ष से 4 लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज करायी गयी है। वही बावनवीर यादव के परिजनों ने दूसरे पक्ष के छह लोगों के खिलाफ केस दर्ज करायी है। गोपनीयता के कारण एसडीपीओ ने आरोपियों का नाम गुप्त रखा है। वहीं चिमनी भट्टा के मालिक रमेश कुमार सिंह ने बताया कि लगभग एक वर्षों से गांव के ही एक व्यक्ति से से विवाद चला आ रहा था। आज सुबह करीब साढ़े तीन बजे जब मंतोष कुमार सिंह अपने तीन साथियों के साथ सोये थे तभी हमला हुआ।

मृतक के परिवार में पसरा मातम
मुंशी मंतोष सिंह की मौत की सूचना परिजनों को मिली। सूचना मिलते ही घर मे मातम छा गया। मृतक के परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल था। मंतोष सिंह के पिता गंगा प्रसाद पेशे से किसान है। बेटे की कमाई से परिवार का भरण पोषण होता था। मंतोष के दो पुत्र और एक पुत्री है। सबसे बड़े पुत्र की उम्र 16 वर्ष है। मृतक के पिता के फर्द बयान पर चार लोगों को आरोपी बनाया गया है।

क्या है विवाद
बता दें कि विगत 21 अक्टूबर 2018 में भी कुख्यात अपराधी हीरो के द्वारा इसी चिमनी भट्टा के मालिक रमेश कुमार सिंह से रंगदारी मांगी गयी थी। रंगदारी नही देने पर कुख्यात अपराधी हीरो ने अपने साथी के साथ चिमनी पर फायरिंग की थी। जिसमें मुंशी मंतोष सिंह के जांघ में एक गोली लग गई थी। दूसरी तरफ, जख्मी रामबिहारी यादव उर्फ बावनवीर यादव, पिता जयमंगल यादव इब्राहिमनगर का रहने वाला है। परिजनों ने बताया कि 2018 में ही चिमनी संचालक के पक्ष की ओर से मेरे भाई की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना में बावनवीर यादव चश्मदीद गवाह था।

खबरें और भी हैं...