पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रफ्तार का कहर:दोस्त की शादी से लौट रहे तीन दोस्तों की अरवल जिले में सड़क दुर्घटना में गई जान

आरा/उदवंतनगर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सड़क पर खड़े ट्रक में टकराने से हुई मौत, तीनों अर्थियां एक साथ उठने से माहौल मार्मिक
  • तीनों दोस्त एक ही बाइक पर सवार थे, मेहंदिया थाना क्षेत्र के कोनाकुटी पास हुई घटना

भोजपुर जिले के तीन युवकों की मृत्यु अरवल जिले में सड़क दुर्घटना में हो गई तीनों अपने दोस्त की शादी में अरवल जिला गए थे। जहां से वे देर रात में लौट रहे थे। तीनों मृतक जिले के उदवंतनगर प्रखंड में बेलाउर गांव के निवासी थे। मृतकों में बेलाउर निवासी केदार चौधरी का पुत्र दयानन्द कुमार, पवन चौधरी का पुत्र अभिषेक कुमार, सुजीत चौधरी का पुत्र अंकुश कुमार थे।

बताया जाता है कि घटना अरवल जिला में मेहंदिया थाना क्षेत्र के कोनाकुटी गांव के पास हुई। तीनो एक ही बाइक पर बैठकर घर लौट रहे थे तभी हंडिया थाना क्षेत्र में सड़क पर खड़ी ट्रक में टकराने से तीनों दोस्त की मौत हो गई। सूचना मिलने के बाद मेहंदिया के थानाध्यक्ष घटना-स्थल पर पहुंचे और शव को कब्जे में ले सदर अस्पताल अरवल पहुंचे। ग्रामीणों ने बताया कि तीनों बचपन के दोस्त थे। शुक्रवार के संध्या अपने बाइक से यह कह के निकले थे कि हम अपने दोस्त के शादी में शरीक होने के लिए अरवल जिला जा रहे है।

आधार कार्ड से हुई युवकों की पहचान

पुलिस कोमृतकों के जेब से आधार कार्ड मिला, जिससे पहचान हुई। इसके बाद पुलिस ने इसकी सूचना परिजनों को दिया। सूचना मिलते ही घर में हाहाकार मच गया और परिजन रोने बिलखने लगे। सूचना मिलने के बाद रोते बिलखते मृत युवकों के परिजन अरवल सदर अस्पताल पहुंचे जिसके बाद सभी का पोस्टमार्टम करा पुलिस ने शव को सौंप दिया। घटना की जानकारी जैसी ही बेलाउर गांव में पहुंची, मातम छा गया। मृतक के घरों पर ग्रामीणों का भीड़ इकठ्ठा हो गया। अंकुश कुमार अपने माता पिता का इकलौता संतान था।

पेशे से थे किसान

ग्रामीणों ने बताया कि केदार चौधरी और पवन चौधरी दोनों पेशे से किसान है। सुजीत चौधरी राउरकेला में कॉन्ट्रैक्ट का काम करते हैं। दयानंद दो भाई था, जिसमें यह छोटा था बड़ा भाई शिवानंद चौधरी पढ़ाई लिखाई छोड़ कर खेती का काम करता था। अभिषेक कुमार दो भाई में बड़ा था, छोटा सुभेक कुमार आठवीं क्लास में पढ़ता है। अंकुश कुमार अपने परिवार में इकलौता था। राउरकेला में अपने पिताजी के साथ रह कर डिप्लोमा की तैयारी कर रहा था। लॉक डाउन होने की वजह से 20 दिन पहले घर आया था। अपने किसी दोस्त के शादी में अरवल जा रहा था हादसे में उसकी मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...