तीसरी लहर में यह पहला कोरोना विस्फोट:महज सात दिन में एक्टिव 93, कोरोना की लंबी छलांग, जमादार समेत 53 पाॅजिटिव, संक्रमितों में ज्यादा महिला व युवा

औरंगाबाद20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संक्रमितों की हालत सामान्य, घर पर ठीक, अस्पताल जाने की हालत नहीं - Dainik Bhaskar
संक्रमितों की हालत सामान्य, घर पर ठीक, अस्पताल जाने की हालत नहीं

सावधान‌! बिना काम के बाजार जाने के आदि हैं तो फिलहाल अपनी कदमों को थाम लीजिए। क्योंकि जिले में कोराेना तीसरी लहर में पहली और बड़ी छलांग लगाई है। शुक्रवार को पहली बार एक साथ 53 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इनमें ओबरा थाना के एक जमादार और दो सिपाही भी शामिल हैं। इसलिए सावधान रहिए। सर्तक रहिए और मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकलें। इसके साथ ही एक्टिव मरीजों की संख्या 93 हो गई है। जो नए संक्रमित मिले हैं उनमें सबसे ज्यादा मदनपुर प्रखंड़ के आठ, दुसरे नंबर पर देव जहां के 10 हैं। इसके बाद ओबरा में 9, हसपुरा में चार, कुटुंबा में चार, रफीगंज में तीन और गोह में एक मरीज शामिल हैं। बाजार में लापरवाही कम नहीं हो रही है। जिसके चलते ही संक्रमण तेजी से फैल रहा है। राजनीतिक कार्यक्रम को लोग हवाला देकर कोरोना को हल्के में ले रहे हैं।

संक्रमितों में एक बच्चा भी, एक्टिव केस 93
कोरोना सड़क पर लापरवाही से घुमने वालोंं को खूब अपना शिकार बना रहा है। ये हमरा दावा नहीं है, बल्कि कोराेना पाॅजिटिव के आए रिजल्ट बता रहे हैं। शुक्रवार को 53 संक्रमितों में सबसे ज्यादा महिला और युवा शामिल है। वहीं एक 9 साल को बच्चा भी शामिल है। अगर आंकड़ों पर गौर करें तो सबसे ज्यादा 24 महिला, 5 किशोर व 5 बुर्जूग हैं और अन्य सभी युवा। जिनकी उम्र 18 से 45 वर्ष है। तेजी से काेराना का फैलाव हो रहा है। इसलिए इसे रोकना बेहद जरूरी है। वरना आगे मुश्किल होगी। महज सात दिनों के अंदर 93 कोरोना पॉजिटिव सामने आए। पहले दिन चार कोरोना पॉजिटिव मामले मिले। इसके बाद तीन को एक, चार जनवरी को सबसे ज्यादा 10 मामले सामने आए। बुधवार को थोड़ी रही और आंकड़े में गिरावट आंकी गई। सात पॉजिटिव सामने आए, लेकिन फिर गुरूवार कोरोना के आंकड़े में विस्फोट हुआ और लोगों को डराया 17 पॉजिटिव सामने आए।

राहत : सभी मरीजों की तबीयत ठीक
राहत की बात ये है कि सभी कोरोना पॉजिटिव मरीजों की तबीयत बिल्कुल ठीक है। किसी को भी अस्पताल जाने की नौबत नहीं है। मरीजों की मानें तो साधारण उनको फ्लू जैसा है। भूख भी लग रही है। नींद भी अच्छा आ रहा है। बस थोड़ा सा सर भारी और गले में खरास की शिकायत है, लेकिन कई संक्रमितों की तबीयत में तेजी से सुधार हुई है। उम्मीद है, वे दो से चार दिनों में स्वस्थ्य हो जाएंगे। जबकि दुसरी लहर में 15 से 25 दिन तक लग रहा था। डॉक्टरों का भी मानना है कि इनकी तबीयत बिल्कुल ठीक है, लेकिन कोरोना का फैलाव न हो, इसके लिए आइसोलेट होना जरूरी है।

डरिए! दूसरी लहर में रूला चुका है
वायरस से डरिए। क्याेंकि दुसरी लहर में कोरोना रूला चुका है। तड़पा चुका है, कई घरों के खुशियां छिन चुका है। ये इसबार कमजोर है यह हमें हौंसला देता है। ठीक है, लेकिन उसे कमजोर आंकने की जरूरत नहीं। कोविड की जंग हम जीत चुके हैं, लेकिन एक बार फिर कोरोना हमारे सामने चुनौती बनकर आया है।फिर इसे हराना होगा। तभी समाज में अमन-चैन और खुशहाली आएगी। सतर्क और सजग रहने की जरूरत है। जिला आपदा विभाग के अनुसार पहली लहर से लेकर अब तक जिले में कोरोना से 181 लोगों की जान जा चुकी है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग 92 लोगों की मौत की पुष्टी करता है। 18 हजार 472 लोग संक्रमित हुए हैं। जबकि 18 हजार 447 मरीज कोरोना को हरा चुके हैं। पहली और दूसरी लहर संयम, धैर्य और सावधानी से हम जीते हैं।

  • कोविड 19 की तीसरी लहर आ चुकी है। लोग इससे डरें नहीं, बल्कि हौंसला के साथ बचाव करें। भीड़ में निकलें और मास्क जरूर लगाएं। इस बार ऑक्सीजन की कोई कमी हनीं होगी। 200 आक्सीजन बेड है। पुरी तैयारी कर ली गई है। - सौरभ जोरवाल, डीएम
खबरें और भी हैं...