पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खुलासा:3 माह बाद अपहृत मिथिलेश व श्रवण का नरकंकाल पलामू से हुआ बरामद

औरंगाबाद22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जब्त कार की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
जब्त कार की तस्वीर।
  • दानी बिगहा के मिथिलेश व चालक का पंडा घाटी के पास हुआ था अपहरण
  • मास्टरमाइंड देवघर पुलिस के जवान प्रेमनाथ यादव भी धराया

शहर के दानी बिगहा के रहने वाले अपहृत मिथिलेश प्रसाद और उनके चालक श्रवण प्रजापति का नरकंकाल के रूप में तीन माह बाद पलामू में बरामद हुआ। पलामू पुलिस ने पांच अपहरणकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया है। जिनके पास से चार रायफल, 80 जिंदा कारतूस, अपहरण में प्रयुक्त होने वाली स्विफ्ट डिजायर कार, एक पल्सर बाइक व चार मोबाइल फोन जब्त किया है।

पुलिस ने उपरोक्त दोनों के अपहरण व हत्या में संलिप्त गिरोह के सरगना देवघर पुलिस के जवान रमकंडा प्रखंड के पुंदागा गांव के प्रेमनाथ यादव समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार अपराधियों में चैनपुर प्रखंड के बूढ़ीवीर बेलवादामर का शफीक अंसारी, ओमप्रकाश चंद्रवंशी, पुदांगा के अजय यादव, अमरेश यादव शामिल हैं।

इसमें अजय यादव सरगना का ममेरा भाई और अमरेश यादव चचेरा भाई है। पलामू एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने प्रेस वार्ता में बताया कि प्रेमनाथ यादव व शफीक अंसारी के घर से 315 बोर का चार बोल्ट एक्शन राइफल, 315 बोर का आठ जिंदा गोली, अपरहण की घटना में प्रयुक्त स्विफ्ट डिजायर कार (जेएच 01 डीक्यू 4010) चार मोबाइल और विभिन्न कंपनियों का सिम, अपह्त को बांधने में प्रयुक्त दो जंजीर ताला सहित बरामद किया है।

विभिन्न थाना में गिरोह पर दर्ज है कई संगीन मामले
एसपी ने बताया कि गिरोह पर रेहला थाना में एक, नावा बाजार थाना में एक, चैनपुर थाना में चार मामला दर्ज है। इसमें रेहला थाना में नसउवर अंसारी, राजेश दास का अपहरण, चैनपुर थाना में दो मोबाइल की लूट, नेनुआ से बालू ठेकेदार के पुत्र शकील अंसारी का अपहरण, दो व्यक्तियों का अपहरण और बरांव से दिल्ली के एक व्यक्ति का अपहरण का मामला दर्ज है।

पांच अपहरणकर्ता गिरफ्तार, अपहरण करने के बाद ही कर दी थी हत्या, छत्तीसगढ के अंबिकापुर से लौट रहे थे दोनों
एसपी ने बताया कि 25 मई की रात को 11:15 बजे नावा बाजार थाना के कंडा घाटी से स्विफ्ट डिजायर से अंबिकापुर से औरंगाबाद जा रहे मिथिलेश प्रसाद व चालक श्रवण प्रजापति का अपहरण कर लिया। मिथिलेश प्रसाद की पत्नी रीता देवी को कार में छोड़ दिया। पत्नी की सूचना पर नावाबाजार थाना ने त्वरित कार्रवाई की लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला।

इस संबंध में नावा बाजार थाना में कांड संख्या 32/21 दिनांक 26.05.2021 के तहत मामला दर्ज किया गया था। एसपी ने बताया कि दोनों को अपहरण करने के उपरांत दूसरी स्विफ्ट डिजायर से रमकंडा प्रखंड के पुंदागा गांव ले जाया गया।

जहां प्रेमनाथ यादव के भंडार पर उसको रखा गया। उसके बाद मिथिलेश प्रसाद के पुत्र से 50 लाख की फिरौती की मांग की गयी, जिसमें दस लाख पर बात बनी। हालांकि मृतक के पुत्र के बात करने के तरीके से आंशकित होकर दोनों की हत्या कर पुदांगा के जंगल में गाड़ दिया। इतना ही नहीं शव के उपर नमक, यूरिया डाल दिया गया।

उसके बाद पीड़ित के परिजनों से फिरौती के रूप में दस लाख की वसूली भी कर ली। उन्होंने कहा कि पुलिस ने अपराधियों के शिनाख्त पर शव को निकालने का कार्य किया तो पुलिस को दोनों का कंकाल मिला। अब पुलिस कंकाल और मृतक के पुत्र का डीएनए सैंपल जांच कराएगी।

खबरें और भी हैं...