औरंगाबाद में एक बच्चा, पांच किशोर समेत 53 पॉजिटिव मिले:सभी मरीजों की स्थिति सामान्य, घर पर ही हैं आइसोलेट

औरंगाबाद21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना जांच के दौरान कोविड प्रोटोकॉल भूले लोग। - Dainik Bhaskar
कोरोना जांच के दौरान कोविड प्रोटोकॉल भूले लोग।

औरंगाबाद में शुक्रवार को कोरोना विस्फोट हुआ। अकेले शुक्रवार को ही एक 9 वर्षीय बच्चा व पांच किशोर समेत 53 पॉजिटिव केस सामने आए। इससे स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया है। अब जिले में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 93 पर पहुंच चुकी है।

शुक्रवार को हसपुरा प्रखंड में चार, देव प्रखंड में दस, सदर प्रखंड में आठ, मदनपुर प्रखंड में 13, गोह प्रखंड में एक, कुटुम्बा प्रखंड में चार, ओबरा प्रखंड में नौ, रफीगंज प्रखंड में तीन मरीज मिले। हालांकि सभी पॉजिटिव मरीजों की स्थिति सामान्य है। पॉजिटिव मरीज घर पर ही आइसोलेट हैं।

सिविल सर्जन डॉ कुमार वीरेन्द्र प्रसाद ने बताया कि मरीजों की संख्या बढ़ी है, लेकिन चिंता करने की बात नहीं है। कोरोना से निपटने की पूरी तैयारी की गई है। हालांकि लोगों को सतर्क रहने की आवश्यकता है। लोग बेवजह घर से बाहर न निकलें। घर से बाहर निकलने पर मास्क अवश्य लगाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अब तक जो लोग वैक्सीन नहीं लगवाएं हैं, वे वैक्सीन लगवा लें। 15 से 18 वर्ष के किशोर-किशोरियों को भी टीका लगवाया जा रहा है। घर के किशोर-किशोरियों का भी टीका लगवाएं। कोरोना से बचने का एक मात्र उपाय वैक्सीनेशन ही है।

कोरोना जांच काउंटर पर भी बेतरतीब भीड़
कोरोना के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण कोविड गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाना है। कोरोना जांच केन्द्र पर भी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ायी जा रही है। संदिग्ध लोग भी बगैर मास्क के जांच कराने पहुंच रहे हैं। लिहाजा कोरोना तेजी से पांव पसार रहा है।

खबरें और भी हैं...