कोरोना से जंग जारी / छूट में लापरवाही का काेरोना भी कर रहा इंतजार सावधान रहिए, वरना पहुंच जाएगा अपके घर तक

Be careful waiting for negligence in relaxation, or else you will reach your home
X
Be careful waiting for negligence in relaxation, or else you will reach your home

  • लॉकडाउन 4 के बाद लापरवाह हुए लोग, सोशल डिस्टेंस की उड़ रही धज्जी, कई गांवाें में कंटेनमेंट जोन फेल
  • बाजारों में सब्जी दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग की जगह खरीदारी के लिए हो रही मारामारी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

औरंगाबाद. छूट राहत के लिए मुसीबत के लिए नहीं। छूट को आप मुसीबत बना रहे। कोरोना भी ऐसी लापरवाही का इंतेजार कर रहा है। सावधान हो जाईए। क्योंकि आपकी एक लापरवाही से कोरोना आपके घर में दस्तक दे देगा। फिर आप अपनी लापरवाही को कोसेंगे। जीवन मौत से जुझेंगे। पूरा परिवार दहशत में जिएगा। मुसीबत में भगवान याद आएंगे। फिर घर में आरती भी होगी। पूजा-पाठ का घंटी भी बजेगा। लेकिन घरों में कोरोना न आए इसके लिए भास्कर सावधान घंटी पहले ही बजा रहा है। ताकि आप कोरोना को लेकर सजग हो जाएं। सावधान हो जाएं।

कोरोना का अब तक काेई इलाज नहीं। बचाव ही एक मात्र उपाय है। सोशल डिस्टेंस सबसे बड़ा इलाज। शुक्रवार को शहर में लापरवाही की कई तस्वीरें भास्कर के कैमरे में कैद हुई। जिसके बाद आपको सजग व सावधान करना पड़ा। सब्जी दुकान में भीड़ न लगे। इसके लिए जिला प्रशासन ने सब्जी दुकानदारों को मुहल्लों में घर-घर जाकर बेचने का आदेश दिया है। सब्जी मुहल्लों में बिक भी रही है। लेकिन लॉकडाउन 4 के बाद राहत वाली छूट को लोग हल्के में ले रहे हैं। सोशल डिस्टेंस बाजार में पूरी तरह से फेल हो चुका है।

खासकर सब्जी दुकानों में तो सोशल डिस्टेंस दम तोड़ चुका है। लोग सब्जी दुकान पर सोशल दूरी अपनाने के बजाय खरीदारी के लिए मारा-मारी कर रहे। मानों कोरोना नाम के शब्द तक ये नहीं जानते। इनके मन से इस शब्द का भय अब खत्म हो चुका है। लेकिन ये लापरवाही है। सब्जी दुकान पर भीड़ लगाने वाले इन लापरवाह लोगों के सहारे ही कोरोना अपनी नापाक मंसूबों में कामयाब होगा। क्योंकि हाल के दिनों में कोरोना का आंकड़ा जिले में बढ़ता जा रहा है। इससे खतरे का अंदाजा लापरवाह लोगों को आसानी से समझना चाहिए। 
बढ़ा खतरा! लॉकडाउन 4 के महज पांच दिनों में 12 केस
जनता कर्फ्यू को लोगों ने सफल बनाया। लॉकडाउन वन के 29 दिनों तक औरंगाबाद जिला ग्रीन जोन में रहा। यह कोई चमत्कार नहीं। आपके धैर्य के बदौलत संभव हुआ था। लेकिन महीना लगने के अंतिम दिन लापरवाही के कारण रोहतास से कोरोना औरंगाबाद में दाखिल हुआ। फिर फरीदाबाद से देव प्रखंड के धर्मपुरा गांव में दाखिल हुआ। इसके बाद थोड़ी लापरवाही बढ़ी तो कोराेना का चेन जिले में तैयार हुआ। इसके बाद बिना प्रशासनिक दबाव के लोगों में कोरोना के प्रति भय दिखा। जिसके कारण कोरोना का चेन बहुत जल्द ही टूट गया। लॉकडाउन 3 में थोड़ी छूट मिली तो थोड़ी लापरवाही हुई।

इसलिए कोरोना मरीजों की संख्या में थोड़ा इजाफा हुआ। लेकिन लॉकडाउन 4 में लोगों के राहत के लिए छूट का दायरा बढ़ाया गया। ताकि आर्थिक पहिया चल पाए, लोगों को सहुलियत मिल पाए। लेकिन लोग तो इस लॉकडाउन का अब रैला निकाल रहे। कोरोना को मजाक समझ रहे। लिहाजा कोरोना अपने नापाक मंसूबों में तेजी से बढ़ रहा। लॉकडाउन 4 के महज पांच दिनों में कोरोना के 12 केस जिले के अलग-अलग प्रखंडों में सामने आए। क्योंकि प्रवासी मजदूरों का आने का सिलसिला यहां जारी है। उनके साथ भेदभाव नहीं करना है। मदद भी करना है। लेकिन पूरी सावधानी के साथ। लेकिन लापरवाह लोग बिना मदद किए लापरवाही किए जा रहे हैं। ये मुश्किल पैदा कर सकता है।
गोह प्रखंड में भी लोग बने हैं लापरवाह: गोह प्रखंड में चार करोना पॉजिटिव मिलने के बाद भी लोग सचेत नहीं हो रहे हैं। मुख्यालय स्थित अंदर बाजार से लेकर गोलापर, जगपति चौक के आसपास जरूरत के दुकानों को छोड़ दर्जनों ऐसी दुकानें खुली हुई है, जो वैध नहीं है। सर्वाधिक दुकान अंदर बाजार में खुला है, जो थाना के समीप है। दुकानदार अपने-अपने दुकान का सेटर गिराकर अंदर ही अंदर अपने व्यवसाय को चालू रखे हुए हैं। खरीदार सड़कों पर घूम रहे हैं। न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है, न ही लोगों द्वारा मास्क का इस्तेमाल किया जा रहा है।
बोले डीएम- लॉकडाउन उल्लंघन पर होगी कार्रवाई
लॉकडाउन के उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी। छूट सिर्फ लोगाें के राहत के लिए दी गई है। लापरवाही बरतने के लिए नहीं। जरूरी काम से ही लोग घर से बाहर निकलें और सोशल डिस्टेंस का कों पूरा ख्याल । -सौरभ जोरवाल, डीएम

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना