डायन-ओझा बता कर पति-पत्नी को कुल्हाड़ी से काट डाला:औरंगाबाद में अंधविश्वास के चलते डबल मर्डर; हत्यारे ने ' मेरे बेटे को भूत लगाकर मारा' कहते हुए दंपति को काट डाला

औरंगाबाद5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार को घटना के बाद रोते- बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
बुधवार को घटना के बाद रोते- बिलखते परिजन।

एक और जिंदगी अंधविश्वास और कुरीतियों की बलि चढ़ गयी। औरंगाबाद में बुधवार की सुबह डायन-ओझा बताकर अपराधियों ने एक पति-पत्नी की कुल्हाड़ी और गड़ासी से काट कर हत्या कर दी। घटना मदनपुर थाना क्षेत्र के जमुआईन गांव की है। मृतक फकीरा भुईया (60 वर्ष) और उनकी पत्नी पनवा देवी (55 वर्ष) जमुआईन गांव के रहने वाले थे। घटना की सूचना पाकर मदनपुर पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को अपने कब्जे में लेकर तहकीकात शुरू कर दी।

घटनास्थल पर SDPO अनूप कुमार, CI विजय कुमार सिंह, थानाध्यक्ष आनंद कुमार गुप्ता ने मौके पर पहुंचकर त्वरित कारवाई करते हुए हत्या में शामिल लालमोहन भुईया, तपेश्वर भुईया और विजय भुईया को गिरफ्तार कर लिया। SDPO अनूप कुमार ने बताया कि डायन-ओझा को लेकर पति पत्नी की हत्या कुल्हाड़ी से काट कर कर दी गई है। इस मामले में 3 लोगो को गिरफ्तार किया गया है।

हत्यारे कह रहे थे डायन-ओझा हैं दोनों, मेरे बेटा को खा गए

FIR में मृतक फकीरा भुईया के बेटा दीपक भुईया ने कहा है कि हमलोग रात को खाना खा कर सोने चले गए थे। रात के 11बजे रात में 10-12 लोग घर में घुस आए और गाली-गलौज करने लगे। मेरे पिता को काटकर मार डालने की बात कहकर वे चले गए। इसके बाद सुबह में 5 बजे के करीब वे हाथ में गंड़ासा और कुल्हाड़ी लिए हमारे घर पहुंच गए। मेरी मां पनवा देवी घर के पीछे शौच के लिए जा रही थी। इसी दौरान गांव के ही लालमोहन भुईया, विजय भुईयां, सुकेश भुईयां, तपेश्वर भुईया, अरुण भुईया, राजेश भुईया और बाबू लाल भुईया, कपिल भुईया, राम प्यारे भुईया और अशरफी भुईया ने मेरी मां को पकड़ कर बेरहमी से गड़ासा और कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी।

इसके बाद घर में सो रहे मेरे पिता फकीरा भुईंया को भी गड़ासा और कुल्हाड़ी से प्रहार कर गला काट कर हत्या कर दी। वे लोग यह आरोप लगा रहे थे कि फकीरा और इसकी पत्नी पवना देवी ओझा और डायन है जिसने उनके बेटे को खा लिया है।

घटनास्थल पर पहुंची पुलिस।
घटनास्थल पर पहुंची पुलिस।

अगर भागे ना होते तो बहू-बेटे को भी काट डालते

हत्यारे फकीरा भुईंया के बहू-बेटे को भी काट डालते, अगर वे घर से जान बचाकर नहीं भागे होते। हत्या की प्रत्यक्षदर्शी मृतक फकीरा भुईया की बहू सफुला देवी ने बताया कि दर्जनों की संख्या में लोग गाली गलौज करते हुए घर में घुस आए। वे कह रहे थे कि भूत लगाकर मेरे सास-ससुर ने उन्हें मार डाला। सुफला देवी ने बताया कि मेरे ससुर दिव्यांग थे। हत्यारों ने मेरी सास के बाद उन्हें भी काट डाला। इसके बाद वे कहने लगे कि दीपक भुईंया और सुफला देवी को भी काट दो। कोई बचने ना पाए। मौका देखकर हमलोगों ने भागकर अपनी जान बचाई।

बेटे की मौत के बाद झाड़-फूंक करने का लगा रहा था आरोप

5 महीने पहले गांव निवासी लालमोहन भुईया के बेटे संजय भुईया (30 साल) की मौत किसी अज्ञात बीमारी के कारण हो गई थी। उसी वक्त से लालमोहन, फकीरा भुईया पर झाड़-फूंक कर बेटे को मारने का आरोप लगा रहा था। इसी को लेकर दोनों परिवार के बीच खूब लड़ाई होती थी। मंगलवार रात 11 बजे शराब के नशे में फकीरा भुईया से गाली-गलौज हुई थी, लेकिन वह कुछ नहीं बोला। जब बुधवार की सुबह फकीरा भुईयां की पत्नी सोकर घर से बाहर निकली तो लालमोहन समेत अन्य ने कुल्हाड़ी से काटकर उसकी हत्या कर दी।

इसके बाद घर में घुसकर फकीरा को भी काट डाला। मौके पर ही दोनों की मौत हो गई। घटना के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई।

खबरें और भी हैं...