पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खतरा बरकरार:जिले में कोरोना की टूटी चेन, अब मात्र 77 मरीज,12 हराकर हुए ठीक

औरंगाबाद10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीन केंद्र का निरीक्षण करते डीपीएम। - Dainik Bhaskar
वैक्सीन केंद्र का निरीक्षण करते डीपीएम।
  • 2561 की जांच में 4 मिले पॉजिटिव, ठीक हुए बोले-सावधानी अब भी जरूरी

दूसरी लहर में कोरोना मात खा रहा है। वायरस घुटनों के बल आ चुका है। पूरी तरह से कंट्रोल हो चुका है, लेकिन थर्ड वेब से सतर्क रहना जरूरी है। इसीलिए वैक्सीन लगवांए और मास्क नियमित लगाएं। शनिवार को 2561 संदिग्धों की कोरोना जांच की गई। जिसमें 4 पॉजिटिव मरीज मिले और 2557 लोग निगेटिव पाए गए। जबकि 12 लोग कोरोना को हराकर ठीक हुए।

जिले में अब मात्र 77 कोरोना एक्टिव मामले बच गए हैं। एक्सपर्ट डॉक्टरों का मानन है कि जिले में अब कोरोना कंट्रोल हो चुका है और आंकड़े तेजी से गिर रहे हैं। अगर एक्टिव मरीजों की संख्या इसी रफ्तार से गिरी तो जिले में 10 से लेकर शुन्य तक एक्टिव मरीजों की संख्या हो जाएगी।

कई प्रखंडों में काेरोना आउट: शनिवार को कोरोना कई प्रखंडों में शुन्य पर आउट हो गया। जबकि औरंगाबाद शहर व कुटुंबा में वह खाता जरूर खोला। शहर में तीन तो कुटुंबा में एक मरीज मिला। जबकि दाउदनगर, हसपुरा, गोह, रफीगंज, मदनपुर और देव में कोरोना के एक भी मामले सामने नहीं आए। इसी तरह नवीनगर, बारूण और ओबरा में भी सैंकड़ो लोगों की जांच हुई, लेकिन एक भी मरीज नहीं मिले। शहर के टाउन हॉल में 144 लोगों की जांच हुई। जिसमें 1 पॉजिटिव मरीज मिला। 113 लोग निगेटिव पाए गए। उमा महादेव सर्विस स्टेशन पर 89 लोगाें की जांच में 1 पॉजिटिव मरीज मिला। जबकि 88 लोग निगेटिव पाए गए।

मरीज नहीं होने से कोविड केयर सेंटर बंद

कोरोना ने अप्रैल-मई माह में खूब रूलाया, खूब सताया और खूब डराया, लेकिन अब मुश्किल वक्त गुजर चुका है। अब अच्छा वक्त आ चुका है। सुखद छन का आगमन हो चुका है। आपके लिए सुखद खबर ये है कि औरंगाबाद के सारे कोविड केयर सेंटर बंद कर दिए गए हैं। क्योंकि अब उनमें कोई मरीज नहीं। जो भी मरीज अभी हैं। वे बिल्कुल खतरे से बाहर और तंदुरूस्त हैं। उनमें कोरोना के मामूली लक्षण है और हौंसले भी अब मजबूत। मौसम भी अनुकूल है। न ऑक्सीजन का दिक्कत न ही लू का डर। अब प्रकृति भी मानवता का साथ देने लगी। सब कुछ जल्द ही सामान्य होगा। जिंदगी फिर मुस्कुराएगी और पटरी पर आएगी। बशर्ते पूरे सामाज को काेरोना को लेकर सजग व सतर्क रहना होगा। क्योंकि लापरवाही ने ही खत्म हो चुके कोरोना को पैदा किया।

डीएम बोले- तीसरी लहर का खतरा, इसलिए वैक्सीन जरूर लें

डीएम सौरभ जोरवाल ने दैनिक भास्कर को बताया कि कोरोना की दूसरी लहर का खतरा टल चुका है, लेकिन तीसरी लहर का खतरा अभी भी है। इससे बचने का एक मात्र कारगर उपाय वैक्सीन है। मेरा अपील है सभी लोग वैक्सीन लें। वे लोेग जरूर वैक्सीन ले जिनके घरों में छोटे-छोटे बच्चें हैं। क्याेंकि थर्ड वेब बच्चाें को प्रभावित करेगा। ऐसा वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर बच्चों के माता-पिता और घर के नौजवान, बुजुर्ग वैक्सीन ले लें तो उस घर के बच्चों पर थर्ड वेब का खतरा टल जाएगा। इसलिए वैक्सीन जरूरी लगवाएं। जिलेभर में 81 सेंटरों पर वैक्सीनेंशन की सुविधाएं दी जा रही है। जहां पहुंचकर टीका लगवा लें। टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। मैं खुद भी टीका लिया हूं। जिले के सभी अधिकारी टीका लिए है। टीका का शरीर पर कोई सकारात्मक नुकसान नहीं।

खबरें और भी हैं...