पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पड़ताल:करोड़ों खर्च होने के बावजूद गांवों में नहीं हुआ विकास

औरंगाबाद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर की टीम ने कुटुंबा प्रखंड के दधपा पंचायत पहंुच ग्रामीणों से जाना हाल, लोगों ने कहा-नाली-गली योजना में कुछ जगहों पर अधूरा रह गया काम

पंचायत का हाल भास्कर पड़ताल के तहत दैनिक भास्कर की टीम कुटुंबा प्रखंड के दधपा पंचायत पहुंची। जहां मुखिया के दावे, विरोधियों की बातें तथा ग्रामीणों द्वारा बताए गए हकीकत पर विस्तृत रिपोर्ट तैयार की गई। मुखिया के साथ कुछ ग्रामीणों ने पिछले पांच साल के कार्यकाल को संतोषप्रद बताया। वहीं कुछ लोगों में नल जल समेत अन्य योजनाओं की विफलता के कारण नाराजगी भी दिखी। अधिकांश वैसे पंचायत जहां महिला मुखिया है, वहां उनके पति का ही राज रहा। लेकिन दधपा पंचायत की स्थिति इससे अलग है। इस पंचायत का मुखिया पद अनुसूचित जाति महिला आरक्षित है। यहां मुखिया सिर्फ रबर स्टाम्प बनी रहे और उनके नुमाइंदे हावी रहे। पंचायत के अधिकांश लोगों का कहना है कि पांच वर्षों तक मुखिया का दर्शन दुर्लभ रहा। कुछ लोगों ने यह भी दावा किया कि पंचायत के अधिकांश लोग मुखिया को पहचानते तक नहीं है। पंचायत से संबंधित जो भी कार्य है वे उनके नुमाइंदे ही करते हैं। वहीं अगर विकास की बात की जाए तो पंचायत के कई गांव अब भी इससे अछूता है। करोड़ों रुपए खर्च होने के बावजूद भी पंचायत के सभी गांव व टोला में पक्की नाली गली का अभाव है। पंचायत मुख्यालय में अभी भी कई जगहों पर नालियों की स्थिति जर्जर है। पूर्व में बने नालियों की सफाई नहीं कराई गई है न ही ढका गया है। जिसके कारण पानी का जमाव है। बजबजाती नालियों के कारण लोगों का दुर्गंध से बुरा हाल है। इसके अलावा रामपुर, परसा टोले रामपुर,परसा, मनोरथा, मथुरापुर आदि गांवों में विकास कार्य नहीं कराया गया है।

कई गांवों में हुए हैं बेहतर कार्य
दधपा पंचायत में नाली गली की 35 योजनाओं का कार्यान्वयन हुआ है। दधपा बिगहा, उतरवारी बिगहा, पिपरा व झरहा गांव में विकास के कई कार्य हुए है। कई वार्डों में नल जल का कार्य भी अच्छा हुआ है और हर घर नल का जल योजना का लाभ मिल रहा है। कई वर्षों से लंबित मनरेगा भवन का निर्माण कार्य फिर से शुरू कराया गया है। इसके अलावा पंचायत सरकार भवन का निर्माण भी कराया जा रहा है। उक्त भवन निर्माण के बाद पंचायत स्तरीय कार्यों के निष्पादन लोगों को सहूलियत होगी।

नल जल का कार्य है अधूरा
दधपा पंचायत में कुल 14 वार्ड हैं। पंचायत के लगभग सभी वार्डों में नल जल योजना का कार्यान्वयन हुआ है। वार्ड में योजना पूरी हो चुकी है और लोगों को हर घर नल का जल योजना का लाभ मिल रहा है। लेकिन कई वार्डों में योजना अभी अधूरी है। पंचायत के वार्ड नंबर 8 में योजना पूर्ण है लेकिन विद्युत कनेक्शन के अभाव में पानी की आपूर्ति बाधित है। उक्त पंचायत में कई ऐसे वार्ड हैं जिनमें एक से अधिक गांव हैं। ऐसे वार्डों में एक गांव में नल जल योजना का कार्यान्वयन किया गया है। लेकिन दूसरे गांव को इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। वार्ड नंबर दो में स्थित परसा टोला रामपुर गांव में भी लोगों को नल जल योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। हालांकि मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना फेस टू के तहत इस टोले का सर्वे कराया गया है। इसके अलावा कुछ ऐसे भी गांव हैं जहां योजना पुणे होने के बावजूद भी लोगों को पानी नहीं मिल पा रहा है।

विरोधियों ने कहा-विकास के नाम पर पंचायत में हुई खानापूर्ति, कहा-पांच साल तक मुखिया का दर्शन रहा दुर्लभ
मुखिया बोलीं-शेष बचे कार्यों को पूरा करने का होगा प्रयास

मुखिया शोभा देवी ने बताया कि पंचायत के सर्वांगीण विकास का प्रयास किया गया है। पंचायत द्वारा कई बेहतर कार्य किए गए हैं। शेष बचे कार्यों को पूरा कराने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है। सात निश्चय योजना को धरातल पर उतारा गया है। पंचायत मुख्यालय दधपा में एक करोड़ 14 लाख की लागत से पंचायत सरकार भवन का निर्माण कराया जा रहा है। पंचायत के लगभग सभी घरों में शौचालय का निर्माण कराया गया है।

कई योजनाएं रह गईं अधूरी
दधपा गांव निवासी शिव कुमार सिंह ने बताया कि पंचायत के कई गांवों में अच्छे विकास कार्य हुए हैं। लेकिन कई गांव में योजनाएं अधूरी रह गई है।पंचायत भवन के समीप ही नल जल योजना का कार्य अभी तक अधूरा है। जिसके कारण लोगों को सरकार की महत्वकांक्षी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

कई गांवों में जीवनदायिनी सावित्री नल जल योजना में हुए बेहतर काम
पोखराही गांव निवासी संजय कुमार सिंह ने कहा कि पंचायत के कई वार्डों में मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत बेहतर कार्य हुए हैं। गर्मी में जलस्तर नीचे जाने के बाद चापाकल फेल हो गया है। ऐसी स्थिति नल जल योजना लोगों के लिए जीवनदायिनी साबित हुई है।लेकिन कई जगह नाली गली पक्की करण का कार्य अधूरा रह गया है। समय-समय पर नालियों की साफ-सफाई की भी जरूरत है।​​​​​​​

योजनाओं में बरती गई है अनियमितता
पंचायत के मनोरथा गांव निवासी पूर्व प्रमुख मनोज कुमार सिंह का कहना है कि योजनाओं के क्रियान्वयन में अनियमितता बरती गई है। कई योजनाओं को बिना पूर्ण कराए ही पूरी राशि निकाल ली गई है।कई गांव विकास से अछूते हैं जबकि कुछ गांवों में दिल खोलकर राशि खर्च की गई है।​​​​​​​

ईट भट्ठे पर कार्य करने वाले मजदूर को बनाया मुखिया, राशि का हो रहा बंदरबांट
पिपरा गांव निवासी रिटायर्ड फौजी जयेंद्र सिंह का कहना है कि कुछ लोगों ने निजी स्वार्थ साधने के लिए ईट भट्ठा पर काम करने वाली एक बाहरी मजदूर को मुखिया बना दिया। पांच सालों तक उसका फर्जी हस्ताक्षर कर सरकारी राशि का दुरुपयोग करते रहे। योजनाओं के क्रियान्वयन में भी अनियमितता बरती गई है। उन्होंने आरटीआई के तहत मुखिया से कई सूचना भी मांगा है। लेकिन मुखिया द्वारा संतुष्ट जवाब नहीं दिया गया है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें