पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

वारदात:नशे में सो रहे युवक की गला रेतकर हत्या, परिजनों ने कहा-नहीं मालूम कौन मारा

औरंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रफीगंज थाना समीप बाबूगंज मुहल्ले की घटना, तहकीकात में जुटी पुलिस
  • परिजनों ने शराबी को हाथ-पैर बांधकर कमरे में सुलाया था

शराब के नशे में धुत युवक को परिजनाें ने हाथ-पैर बांधकर कमरे में सुला दिया। फिर आधी रात को अज्ञात अपराधियों ने गला रेतकर उसकी हत्या कर दी। घटना रफीगंज थाना के समीप बाबूगंज मुहल्ला की है। मृतक 40 वर्षीय अजय चौरसिया उसी मुहल्ला का रहने वाला था। पुलिस ने घटनास्थल से उसका शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

पुलिस मौके से रस्सी, उसका चप्पल, एक डिब्बा, एक सफेद कपड़ा को भी बरामद किया है। इस मामले में मृतक के बड़ा भाई विजय चौरसिया के आवेदन पर हत्या की एफआईआर दर्ज करायी गई है। जिसमें अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है। रफीगंज थानाध्यक्ष राजीव रंजन ने बताया कि पुलिस मामले की तहकीकात कर रही है। कई बिंदू पर तहकीकात की जा रही है।
हत्या किसने की किसी ने नहीं देखा, चीख भी नहीं सुना: मृतक 40 वर्षीय अजय चौरसिया सुबह से ही शराब के नशे में था। शाम में घर में आकर गाली-ग्लौज कर रहा था। जिससे परेशान होकर उसका बड़ा भाई विजय चौरसिया, उसका भतीजा व मुहल्ले के तीन अन्य लड़के उसका हाथ-पैर रस्सी से बांधकर घर में सुला दिया। इसके बाद वे लोग सोने चले गए। इसी दौरान अज्ञात अपराधियों ने उसकी गला रेतकर हत्या कर दी। उक्त बातें एफआईआर के लिए दिए गए आवेदन में दर्ज है।

आखिर कैसे मिला उसे शराब, पुलिस को क्यों नहीं मिली जानकारी
सूत्रों के अनुसार उक्त मृतक सुबह में ही शराब पी रहा था। कुछ लोगों के साथ घर पर पहुंचा और जमकर हंगामा मचाया। जिससे अजीज होकर घरवालों ने उसे जबरन हाथ-पैर बांधकर सुला दिया। अब सवाल उठता है कि शराबबंदी के बीच आखिर किस शराब कारोबारी ने उक्त युवक को शराब उपलब्ध कराया। शराब वह किसके-किसके साथ पी। घटनास्थल थाने के महज 500 मीटर की दूरी पर है।

वैसे जब कोई शराबी घर में जमकर हंगामा कर रहा था तो इसकी सूचना पड़ोस वालों पुलिस को क्यों नहीं दी? पुलिस का खुफिया तंत्र भी कैसे फेल कर गया? ऐसे कई सवाल हैं, जो समाज व सिस्टम के सामने खड़ा हो गया। इसका सही जवाब फिलहाल एक अबूझ पहेली है, लेकिन पुलिस की तफ्शीश अगर हुई और हत्यारे तक पुलिस पहुंच गई।

उठ रहा सवाल… परिजन को अपराधियों की भनक उन्हें कैसे नहीं लगी?

घटना के पहले उक्त युवक को परिजनों ने हाथ-पैर बांधकर उसके घर में सुलाया था। फिर रहस्मयी तरीके से अज्ञात अपराधियों ने उसकी हत्या कर दी। परिजनों का कहना है कि हत्या किसने की। वे नहीं जानते। चीख भी नहीं सुनी। आसपास के पड़ोसी भी इस घटना से अनजान हैं, लेकिन सवाल उठता है कि जिस निर्मम तरीके से अपराधियों ने उसके आधे गर्दन को रेता है।

उसे चीखने व चिल्लाने की आवाज जरूर हुई होगी। घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी जरूर भागे होंगे। अपराधिक मामलों के रिसर्च और रिकॉर्ड कुछ ऐसा ही ईशारा करते हैं, लेकिन यहां सभी इनकार कर रहे हैं। न किसी न चीख सुनी, न किसी को अपराधियों की भनक लगी। ये कैसे संभव है? पुलिस को इस मामले में गंभीरता से जांच करनी चाहिए।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें