पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बायोमेट्रिक से फर्जी मतदान पर लगेगी रोक:स्ट्रांग रूम में लगाया जाएगा इलेक्ट्रोनिक लॉक, खुलते ही चुनाव आयोग तक को मिलेगी जानकारी

औरंगाबाद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इलेक्ट्रोनिक लॉक की प्रतिकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
इलेक्ट्रोनिक लॉक की प्रतिकात्मक तस्वीर

पंचायत चुनाव में पारदर्शिता लाने और स्वच्छ चुनाव संपन्न कराने के लिए राज्य चुनाव आयोग एक नई व्यवस्था कर रही है। मतदान के बाद ईवीएम और बैलट बॉक्स रखने के लिए बनाए गए स्ट्रांग रूम में इलेक्ट्रॉनिक लॉक लगाये जाने की प्लानिंग आयोग ने की है। इस लॉक की विशेषता यह है कि जैसे ही इसे खोला जाएगा तो इससे संबंधित सभी पदाधिकारियों को स्ट्रांग रूम का ताला खोले जाने की जानकारी मिल जाएगी।

इतना ही नहीं चुनाव आयोग को भी पता चल जाएगा कि स्ट्रांग रूम को खोला गया है। इस दौरान ताला खोलने की तारीख और समय की भी जानकारी मिल जाएगी। चुनाव में यह व्यवस्था पहली बार की गई है। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने डीएम को भेजे गए पत्र में कहा है कि हर हाल में निष्पक्ष, भयमुक्त और स्वच्छ चुनाव संपन्न कराना है। डीएम सौरभ जोरवाल ने कहा कि इसके लिए सारी तैयारियां की जा रही है। आयोग द्वारा दिए गए निर्देशों का हर हाल में अनुपालन होगा।

पंचायत चुनाव में सोशल मीडिया पर भी की जाएगी मॉनिटरिंग
पंचायत चुनाव को लेकर आयोग पहली बार सोशल मीडिया पर उम्मीदवारों की मॉनिटरिंग करेगा। चुनाव के दौरान किसी भी गड़बड़ी की शिकायत के लिए चुनाव आयोग के द्वारा हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। ऐप के माध्यम से मतदाता शिकायत दर्ज करा सकेंगे।

आयोग की ओर से चुनाव की ऑनलाइन निगरानी कि विभिन्न की सुविधाएं इस बार चुनाव में देखने को मिलेगी। चुनाव आयोग इस बार हर गतिविधियों पर पहली नजर रखने की दिशा में पहल की है। लिहाजा इस बार पंचायत चुनाव में कई अलग-अलग निर्णय लिए गए हैं।

मतदान के 7 दिन पहले उपलब्ध करा दी जाएगी मतदाता पर्ची
जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम सौरभ जोरवाल ने कहा कि मतदान केंद्रों पर ईवीएम के साथ-साथ बायोमेट्रिक मशीन भी लगाई जा रही है। इससे प्रत्येक वोटर की पहचान सुनिश्चित कराई जा सकेगी। बायोमेट्रिक पद्धति से पहचान होने पर फर्जी मतदान पर पूरी तरीके से रोक लग जाएगी।

निर्वाचन आयुक्त ने निर्देश दिया है कि सभी मतदाताओं को मतदान के 7 दिन पहले मतदाता पर्ची उपलब्ध करा दी जाए। पहले से मतदाता पर्ची मिल जाने पर उन्हें पता चल जाएगा कि केंद्र कहां है। पंचायत चुनाव काे लेकर प्रशासन की कई तैयारियां पूरी हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...