पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोरखधंधा:कपड़े के बैग बनाने की आड़ में चल रहा था नकली गुटखा बनाने का कारखाना

बोधगया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पान मसाला बनाने की मशीन। - Dainik Bhaskar
पान मसाला बनाने की मशीन।
  • बोधगया थाने के टिकुना फार्म के समीप छापेमारी, दो संचालकाें के खिलाफ केस दर्ज
  • 25 किलो गुटखा व 11 बोरे में रहे 50 बंडल पान मसाला का रैपर भी हुआ जब्त

बोधगया थाना क्षेत्र के टिकुना फार्म के पास अरसे से कपड़े के कैरी बैग बनाने के नाम पर एकांत में संचालित किए जा रहे नकली गुटखा बनाने की कारखाना का खुलासा पुलिस ने किया है। केसर युक्त विमल कंपनी के नाम पर नकली पान मसाला बनाने का काम यहां चल रहा था।

कारखाना के अंदर से पं. बंगाल निर्मित शराब की सैंकड़ों बोतलों की भी बरामदगी की गई है। पुलिस ने फैक्टरी से कैरी बैग बनाने की मशीन सहित विमल पान मसाला पैक करने की मशीन को भी जब्त किया है। 25 किलो गुटखा और 11 बोरे में रहे 50 बैडल विमल पान मसाला का रैपर भी जब्त किया गया है। इसके अलावे 54 कार्टून में रखी 405 लीटर देसी शराब की भी बरामदगी हुई है।

बोधगया पुलिस ने उक्त स्थान पर संचालकों की टोह में करीब पांच घंटे तक छापेमारी की। फिलहाल पुलिस को दो संचालकों के नाम मिले है। चिन्हित संचालक जयेंद्र सिंह और राघवेन्द्र सिंह को नामजद अभियुक्त बनाते हुए बोधगया थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। पुलिस जमीन मालिक के संदर्भ में पता लगाने में जुटी थी।

फैक्टरी के बाहर गुटखा गिरा देख लोगों ने दी सूचना
नकली गुटखा बनाने वाली फैक्ट्री के बाहर करीब पांच किलो से भी अधिक गुटखा गिरा हुआ था। वहीं पास में एकमात्र बन रही मकान के मजदूरों ने जब घूमते हुए रास्ते से आगे बढ़े तो फैक्ट्री के गेट के पास गुटखा गिरा देख इसकी सूचना दूसरे साथी को दिया। इसके बाद यह खबर धीरे-धीरे बोधगया थाना की पुलिस तक पहुंची। मस्तपुरा गांव के कुछ ग्रामीणों ने बताया कि हमलोगों को जानकारी था कि सरकार द्वारा प्लास्टिक के कैरी बैग को बंद करवा दिया गया है, जिस कारण कैरी बैग का निर्माण कर रोज एक गाड़ी कैरी बैग को बनाकर बिहार के अलग-अलग जगहों में भेजवाया जाता है। किन्तु यहां और ही मामला निकला।

भूसे के बोरे में करता था देसी शराब की सप्लाई
नकली गुटखा बनाने वाली फैक्ट्री के अंदर पुलिस को कई भूसा से भरी बोरे भी मिले है। अनुमान लगाया जा रहा है कि शातिर अपराधियों द्वारा देसी शराब की खेप को रात में फैक्ट्री में लाकर उसे भूसे के बोरे में कर अलग-अलग जगहों में सप्लाई किया जाता था। भूसा रहने के कारण कोई भी व्यक्ति उसके अंदर शराब के खेप होने का शक भी नहीं करता और शराब अपने गंतव्य स्थान तक पहुंच जाता। फैक्ट्री में एक टूटी हुई विदेसी शराब की बोतल मिली। माना जा रहा है कि यहां से देसी के अलावे विदेसी शराब की भी सप्लाई की जाती थी।

शराब की खेप भी की गई है बरामद
फैक्ट्री का संचालन जयंत सिंह व राघवेन्द्र सिंह नाम के व्यक्ति के द्वारा संचालित किए जाने की बात सामने आई है। ये कपड़े का कैरी बैग बनाने के नाम पर नामचीन कंपनी विमल गुटखा के नाम पर नकली गुटखा का उत्पाद कर रहे थे। वहीं यहां से शराब की भी सप्लाई की जा रही थी। पुलिस की छापेमारी में शराब और नकली गुटखा की बरामदगी की गई है। मामले में कार्रवाई की जा रही है।
-मितेश कुमार, थानाध्यक्ष बोधगया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें