पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आयोग को भेजा गया पत्र:पंचायत चुनाव के कार्य से स्वास्थ्यकर्मी रहेंगे दूर, कोविड की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए लिया गया निर्णय

औरंगाबाद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंचायत चुनाव को लेकर गतिविधियां तेज हो गई हैं। जिला प्रशासन शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराने के लिए आवश्यक तैयारियों में जुटा है। कोरोना संक्रमण के तीसरी लहर की संभावना भी जताई जा रही है और कुछ राज्य में इसने दस्तक भी देना शुरू किया है। ऐसे में चुनाव को ससमय शांतिपूर्ण ढंग से संपादित करना और कोरोना से निपटना स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन के लिए दोहरी चुनौती है।

कोरोना संक्रमण से निपटने और संभावित तीसरी लहर को देखते हुए स्वास्थ्यकर्मियों की भूमिका अहम हो जाती है। इसे ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर स्वास्थ्यकर्मियों को पंचायत चुनाव की ड्यूटी से मुक्त रखने का निवेदन किया है। इस संबंध सिविल सर्जन डॉ. कुमार वीरेन्द्र प्रसाद ने बताया कि इस बार पंचायत चुनाव से स्वास्थ्यकर्मी दूर रहेंगे। ताकि कोविड के तीसरी लहर से निपटने में किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो।

तीसरी लहर से निपटने के लिए विभागीय तैयारी जोरों पर
राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य विभाग को अन्य राज्यों से आने वाले लोगों की कोविड जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। सरकार द्वारा दिए गए निर्देश को संज्ञान में लेते हुए स्वास्थ्य विभाग नए सिरे से कोविड प्रबंधन में जुट गया है। जिले के डीएम एवं सिविल सर्जन को निर्देश दिया गया है कि केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु से आने वाले लोगों पर विशेष नजर रखा जाए।

जिले के एंट्री प्वाइंट पर कोविड जांच की व्यवस्था की जा रही है और बस अड्डों तथा रेलवे स्टेशन पर भी जांच की व्यवस्था सुदृढ़ की जा रही है। सिविल सर्जन को निर्देश दिया गया है कि वे प्रखंड और पंचायत स्तर पर बाहर से आनेवाले लोगों पर नजर रखने के लिए आशाकर्मियों की मदद लें।

आशाकर्मी घर-घर जाकर यह पता करें कि प्रखंड अथवा पंचायत में केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु से कोई व्यक्ति आया है या नहीं। अगर ऐसी सूचना प्राप्त होती है तो ऐसे व्यक्ति की जांच कराकर रिपोर्ट से मुख्यालय को भी अवगत कराएं।

कोविड संक्रमण की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए लिया गया निर्णय
सचिव द्वारा जारी पत्र में बताया गया है कि कोविड संक्रमण से उत्पन्न वर्तमान स्थिति एवं संभावित तीसरी लहर के समुचित चिकित्सीय प्रबंधन को ध्यान में रखते हुए स्वस्थ्य विभाग एवं स्वस्थ्य विभाग के अनुषंगी इकाइयों में कार्यरत सभी पदाधिकारियों, सभी चिकित्सकों एवं अन्य सभी कर्मियों को पंचायत आम चुनाव 2021 के कर्तव्य से मुक्त रखा जाए।

संभावित तीसरी लहर में किसी भी तरह की आपदा से निपटने के लिए चिकित्सकों एवं अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की कमी न हो इसे ध्यान में रखते हुए प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग द्वारा राज्य निर्वाचन आयोग से विनती की गयी है।

खबरें और भी हैं...