कार्यक्रम:लेट्स इंस्पायर बिहार ने डालमियानगर में बच्चियों के साथ मनाई अनोखी दिवाली

इंद्रपुरी25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लेट्स इंस्पायर बिहार की टीम ने डालमियानगर के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में रहने वाली बच्चियों के साथ दिवाली मनाई। लेट्स इंस्पायर बिहार के द्वारा कस्तूरबा विद्यालय में दिवाली प्रेरणा एवं प्रकाश का पर्व का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर एएसपी आईपीएस नवजोत सिम्मी शामिल हुई । वही विशिष्ट अतिथि के रूप में ऑल इंडिया रिपोर्टर एसोसिएशन के प्रदेश संगठन मंत्री कमलेश कुमार, शाहाबाद प्रभारी अश्विनी सिंह शामिल थे। रोहतास चैप्टर का यह पहला कार्यक्रम जिला में आयोजित हुआ।

कार्यक्रम का संचालन छात्र नेता सह लेट्स इंस्पायर के जिला प्रभारी ने किया । कार्यक्रम का उद्घाटन सभी अतिथियों ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। छात्रा सोनी कुमारी ,संगीता कुमारी , विद्यावती कुमारी एवंप्रियांशु कुमारी ने स्वागत गीत से अतिथियों का स्वागत किया।

एएसपी नवजोत सिम्मी को तुलसी का पौधा भेट कर किया गया सम्मानित :
एएसपी नवजोत सिम्मी को वार्डेन निधि कुमारी ने तुलसी का पौधा भेट कर सम्मानित किया एवं अन्य अतिथियों को भी पौधा भेट कर सम्मानित किया गया। उपस्थित लोगों के संबोधन में एएसपी नवजोत सिम्मी ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा की लेट्स इंस्पायर बिहार के द्वारा ये पहल न सिर्फ सराहनीय बल्कि अनुकरणीय भी है। आज छात्राओं के साथ इस तरह के अनोखी दिवाली मनाकर बहुत खुशी हो रही है। उन्होंने छात्राओं से बात करते हुए उनकी प्रतिभा को सराहा । उन्होंने कहा की छात्राओं की रुचि पढ़ाई के साथ साथ खेल एवं अन्य क्षेत्रों में हो, इसपर विशेष ध्यान दिया जाए।

आईपीएस विकास वैभव ने वर्चुअल रूप से बच्चियों से किया संवाद
विशिष्ट अतिथि संजय सिंह बाला व शाहाबाद संयोजक अश्वनी सिंह ने रोहतास के पूर्व पुलिस अधीक्षक वर्तमान में आईजी सह गृह विभाग के विशेष सचिव विकास वैभव द्वारा संचालित इस संगठन के उद्देश्य एवं कार्यों की सराहना की। आईपीएस विकास वैभव ने वर्चुअल रूप से बच्चियों से संवाद किया एवं उन्हें दिवाली की बधाईयां दी। लेट्स इंस्पायरर बिहार के प्रभारी मनीष उपाध्याय उर्फ यश ने लेट्स इंस्पायरर बिहार के कार्यों की सराहना की और कहा की हमारा प्रयास है, कि बिहार अपनी खोई प्रतिष्ठा को प्राप्त करे ।

उग्रवाद प्रभावित रोहतास, नौहट्टा के पहाड़ी क्षेत्रों से आकर आवासीय रूप से कस्तूरबा बालिका विद्यालय में पढ़ने वाली छात्राओं के साथ दिवाली मनाकर यह संदेश देना चाहते है की अपने घर के आस पास जो गरीब परिवार है, उनके साथ भी हम दिवाली की खुशियां जाहिर करे । हम ऐसी बच्चे बच्चियों के साथ दिवाली मनाएं जो अपने मां बाप से इस खुशी और प्रकाश के पर्व पर दूर है ।

खबरें और भी हैं...