मांगलिक कार्य:14 मार्च से 12 अप्रैल तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य

औरंगाबाद सदर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खरमास के दौरान ही 23 और 24 मार्च को पुष्य नक्षत्र के संयोग में कर सकते हैं खरीदारी

जिन लोगों को मांगलिक कार्य करना है या वाहन, भूमि, भवन खरीदना है, या फिर नवीन प्रतिष्ठान का शुभारंभ करना है, वे 12 मार्च तक कर लेंं। क्योंकि 13 को शनिश्चरी अमावस्या है और 14 मार्च से खरमास प्रारंभ होगा। इसी दौरान 21 मार्च से होलाष्टक भी प्रारंभ होगा, जो 28 मार्च तक चलेगा, जबकि खरमास का समापन 12 अप्रैल को होगा। खरमास के चलते खरीद-फरोख्त अथवा मांगलिक कार्य नहीं होते हैं। इस बीच 23 व 24 मार्च को जरूर पुष्य नक्षत्र योग में खरीद-फरोख्त की जा सकेगी, पर मांगलिक कार्य नहीं होंगे। बावजूद इसके खरमास में पूजा-पाठ, कथा और सत्संग के आयोजन किए जा सकेंगे।

13 मार्च को स्नान-दान अमावस्या रहेगी। इस दिन शनिवार होने से यह शनिश्चरी अमावस्या मानी जाएगी। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और जरूरतमंदों को भोजन व वस्त्र आदि का दान करने और शनिदेव को तिल व तेल आदि चढ़ाकर पूजा करने से विशेष पुण्य फल की प्राप्ति होगी। पंडित दिवाकर पांडेय ने बताया कि अगले दिन 14 मार्च से सूर्य के कुंभ से मीन राशि में प्रवेश होने के साथ ही खरमास (मलमास) शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...