पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • Moral Values, Social Upliftment And Psychological Thinking Are Important In Education: Prof. Harishchandra

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संगोष्ठी:शिक्षा में नैतिक मूल्य, सामाजिक उत्थान और मनोवैज्ञानिक चिन्तन महत्वपूर्ण: प्रो. हरिश्चंद्र

टिकारी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संगोष्ठी को संबोधित करते वीसी व अन्य वक्ता। - Dainik Bhaskar
संगोष्ठी को संबोधित करते वीसी व अन्य वक्ता।
  • सीयूएसबी में फ्यूचर टीचर एजुकेशन प्रोग्राम इन इंडिया विषय पर तीन दिवसीय संगोष्ठी शुरू
  • नई शिक्षा नीति 2020 की चुनौतियों और सम्भावनाओं पर चर्चा की गई

नैतिक मूल्य, सामाजिक उत्थान और मनोवैज्ञानिक चिन्तन को शिक्षक शिक्षा कार्यक्रम में समान महत्व दिया जाना चाहिए। शिक्षक शिक्षा कार्यक्रम के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए समाज व कार्य-प्रणाली में सुधार व योगदान अपेक्षित है।

इसके माध्यम से ही हम भविष्यवर्ती आवश्कताओं एवं अपेक्षाओं के अनुकूल कुशल, दक्ष व कर्मठ शिक्षकों को तैयार कर पाएंगे। दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय (सीयूएसबी) के कुलपति प्रो. हरिश्चंद्र सिंह राठौर ने विवि के स्कूल ऑफ एजुकेशन (शिक्षा पीठ) द्वारा आयोजित कार्यशाला में ये बातें कही। शिक्षा पीठ द्वारा फ्यूचर टीचर एजुकेशन प्रोग्राम इन इंडिया विषय तीन दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया है।

उन्होंने अपने सम्बोधन में शिक्षक-शिक्षा के चार वर्षीय कार्यक्रम (इंटीग्रेटेड बीए बीएड/ बीएससी बीएड) की उपयोगिता और प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। प्रोफेसर राठौर ने कहा कि नित्य परिवर्तित हो रही वैश्विक परिदृश्य की परिस्थितियों के अनुकूल शिक्षक-शिक्षा कार्यक्रम को सामंजस्यपूर्ण बनाए रखना आवश्यक है। जन संपर्क पदाधिकारी मो. मुदस्सीर आलम ने बताया कि इसका आयोजन शिक्षा मन्त्रालय नई दिल्ली द्वारा अनुमोदित पंडित मदन मोहन मालवीय नेशनल मिशन ऑन टीचर एंड टीचिंग योजना के तत्वाधान में किया जा रहा है।

शिक्षक-शिक्षा कार्यक्रम को व प्रभावी व सुदृढ़ बनाने पर चर्चा
प्रो. सीपीएस चौहान, भूतपूर्व अधिष्ठाता, शिक्षा विभाग, अलीगढ मुस्लिम विवि ने बताया कि किस प्रकार हम शिक्षक शिक्षा के शीर्ष निकाय को अधिक प्रभावी बना सकते हैं। शिक्षक शिक्षा कार्यक्रम के ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य का वर्णन करते हुए प्रो चौहान ने नई शिक्षा नीति 2020 के चुनौतियों और सम्भावनाआंे पर चर्चा की और यह भी बताया हम किस प्रकार शिक्षक-शिक्षा कार्यक्रम को और प्रभावी व सुदृढ़ बना सकते हैं।

विद्यार्थियों के व्यक्तित्व पर शिक्षा नीति का होना चाहिए प्रभाव
मुख्य अतिथि प्रतिकुलपति आईएएसई डीम्ड विवि राजस्थान प्रो. नवल किशोर अम्बष्ट ने कहा कि नई शिक्षा नीति के माध्यम से प्रस्तावित शिक्षक शिक्षा का चार वर्षीय कार्यक्रम शिक्षा के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। नई शिक्षा नीति के माध्यम से हम 21वीं सदी की मांगों अौर आवश्कताओं के अनुरूप ज्ञान व तकनीकी की विधाओं से युक्त दक्ष व कुशल शिक्षकों को तैयार कर सकते हैं। एक प्रभावी शैक्षिक प्रक्रिया इस प्रकार से नियोजित होनी चाहिए कि विद्यार्थियों के व्यक्तित्व पर उसका अमिट और व्यापक प्रभाव होना चाहिए।

इन्होंने भी किया संबोधित
कार्यक्रम के सह-समन्वयक डॉ. प्रज्ञा गुप्ता, सहायक प्राध्यापक, शिक्षक शिक्षा विभाग, सीयूएसबी ने भारत में भावी शिक्षक शिक्षा कार्यक्रम के विभिन्न आयामों एवं बिन्दुओं पर प्रकाश डाला। इसके पश्चात प्रोफेसर कौशल किशोर, विभागाध्यक्ष शिक्षक-शिक्षा विभाग एवं अधिष्ठाता, शिक्षापीठ ने मुख्य वक्ता, मुख्य अतिथि और कार्यक्रम में प्रतिभागिता ले रहे 17 राज्यों के सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। कार्यशाला समन्यवक डॉ. तरुण कुमार त्यागी ने सभी प्रतिभागियों को धन्यवाद ज्ञापित किया, जबकि डॉ. सदीप कुमार और डॉ. मनीष कुमार गौतम ने सक्रिय सहभागिता से प्रतिभाग लिया। ऑनलाइन संगोष्ठी आगामी दो दिनों में देशभर से विशेषज्ञ जुड़ेंगे और नई शिक्षा निति पर अपने विचार साझा करेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें