शक्ति की भक्ति:कलश स्थापना के साथ नवरात्र शुरू, पहले दिन की गई मां शैलपुत्री की आराधना

औरंगाबाद17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में नदी व सरोवरों से कलश में की गई जल भरी, घरों व पंडालों में स्थापना

मां दुर्गा की उपासना का महा पर्व शारदीय नवरात्र कलश स्थापना के साथ ही गुरूवार से शुरू हो गया। नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की आराधना कर लोगों ने सुख, शांति व समृद्धि की कामना की। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में नवरात्र की उत्साह देखते ही बन रही है। नदी व सरोवरों से श्रद्धालुओं ने कलश में जल भरकर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूजा पंडाल, मंदिर व घरों में स्थापना की। मां देवी के गीत से पूरा इलाका गुंजायमान दिख रहा है। हर कोई शक्ति की भक्ति में लीन हो गए हैं।

इस बार सरकार के द्वारा कोविड गाइडलाइन के तहत दुर्गा पूजा आयोजित करने की अनुमति दी गई है। जिसके बाद विभिन्न पूजा समितियों के द्वारा पूजा का आयोजन किया जा रहा है। इधर मंदिरों में सुबह से ही दर्शन व पूजन करने को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही तो वहीं कई मंदिरों में नवरात्र पाठ भी शुरू हो गया है। विभिन्न मंदिरों को सजाया गया है। वहीं उसके आसपास चुनरी, नारियल व पूजन सामग्री की दुकानें भी खुल गई है।

शहर के दुर्गा मंदिर धर्मशाला में कलश स्थापना कर नवरात्र पाठ शुरू
शहर के दुर्गा मंदिर स्थित धर्मशाला में आर्यन महाजन नाट्य परिषद के द्वारा दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा रहा है। गुरूवार को धर्मशाला परिसर में ही कलश स्थापना किया गया और नवरात्र पाठ शुरू हुआ। कलश स्थापना से पूर्व समिति के सदस्य सूर्य मंदिर स्थित अदरी नदी तट पर पहुंचे और वहां कलश में जल भरकर वापस धर्मशाला परिसर में पहुंचे। जहां पुजारी के द्वारा पहले पूजन कर कलश का स्थापना कराया गया और फिर नवरात्र पाठ शुरू हुआ।

आयोजन समिति के अध्यक्ष अजीत चंद्रा, सचिव गोलू कुमार, सूरज कुमार, सागर कुमार सहित अन्य ने बताया कि धर्मशाला परिसर में मां दुर्गा, मां काली व भारत माता की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। लगभग 100 वर्षों से शारदीय नवरात्र के मौके पर दुर्गा पूजा का आयोजन होता आ रहा है। इस बार कोविड गाइडलाइन का भी पालन किया जाएगा। सप्तमी को मां का पट खुलेगा और उसके बाद तीन दिनों तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होंगे। अखाड़ा के उस्तादों को सम्मानित किया जाएगा।

ओबरा देवी मंदिर में नवरात्र पाठ शुरू, विभिन्न जगहों से निकाली गई कलश-यात्रा

ओबरा प्रखंड में नवरात्र के पहले दिन विभिन्न पूजा समितियों के द्वारा कलश यात्रा निकालकर जल भरा गया। उसके बाद उसे पूजा पंडाल में स्थापित किया गया। प्रखंड मुख्यालय के दुर्गा चौक, रथ दुर्गा एवं काली मंदिर पूजा समिति के द्वारा कलश यात्रा निकालते हुए दोमुहान घाट पर श्रद्धालु पहुंचे और कलश में जल भरकर वापस पूजा पंडाल में इसे स्थापित किया। इधर ओबरा देवी मंदिर में नवरात्र पाठ शुरू किया गया।

मंदिर समिति के द्वारा आयोजित नवरात्र पाठ पुजारी बजरंगी दुबे कर रहे हैं। वहीं यजमान के रूप में समिति के सदस्य अमित नाग हैं। यहां 10 दिनों तक प्रत्येक दिन शाम में आयोजित होगी और लोगों के बीच महाप्रसाद का वितरण किया जाएगा। मंदिर को काफी आकर्षक तरीके से सजाया गया है।

मां दुर्गा की भक्ति में लीन हुआ रफीगंज, कलश-यात्रा में शामिल हुए हजारों लोग

रफीगंज शहर के बड़ी दुर्गा पूजा समिति के तत्वाधान व आचार्य लाल भूषण मिश्रा के नेतृत्व में भव्य कलश यात्रा निकाला गया। यात्रा बड़ी दुर्गा देवी मंदिर से मंत्र उच्चारण के साथ निकाला गया। दुर्गा पूजा समिति के सदस्य प्रदीप गुप्ता उर्फ बाबू ने बताया कि कलश यात्रा दुर्गा मंदिर से सब्जी बाजार, मुरली चौक, स्टेशन रोड, महाराजगंज से बस स्टैंड होते हुए महादेव घाट धावा नदी पहंुचा।

जलभरी कर सभी श्रद्धालु वापस बड़ी दुर्गा देवी स्थान पहुंचकर कलश स्थापना किए । इस मौके पर मंदिर प्रबंधन पवन शौंडिक ,अशोक शौंडिक, गिरजा प्रसाद, सोहन प्रसाद, सूरज कुमार मयंक, सुबोध मिश्रा, दीपक कुमार, अजीत कुमार, विकास कुमार, विष्णु ,संजय कुमार उर्फ योगी, छोटू कुमार, पवन कुमार ,राजीव कुमार गुप्ता सहित अन्य मौजूद रहे।

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता.. समेत अन्य मंत्रों व श्लोकों से गूंजा बारूण

बारुण प्रखंड में शक्ति की देवी मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप शैलपुत्री की पूजा व कलश स्थापना के साथ गुरुवार से बारुण प्रखंड सहित अन्य जगहों पर में शारदीय नवरात्र प्रारंभ हुआ। या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता..समेत अन्य मंत्रों व श्लोकों से पूरे वातावरण भक्ति का वातावरण कायम हो गया है। कोई निराहार, तो कोई फलाहार रह दुर्गा की आराधना में लीन हुआ।

​​​​​​​प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गांव में गुरुवार को कलश स्थापना किया गया। प्रखंड मुख्यालय में विभिन्न पूजा समितियों द्वारा जलभरी कलश यात्रा निकाली गई।बारुण देवी मंदिर के नवरात्र पूजा समिति,युवा क्लब,दुर्गा क्लब एवं सार्वजनिक दुर्गापूजा समितियों द्वारा जलभरी शोभा यात्रा निकाली गई।

खबरें और भी हैं...