क्राइम:जमीन हड़पने के लिए पड़ोसी ने करायी थी पीआरएस राजेन्द्र की हत्या, एक गिरफ्तार, मास्टर माइंड फरार

औरंगाबादएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

दाउदनगर के पीआरएस राजेन्द्र की हत्या उसके गांव के पड़ोसी ने लाखों की जमीन हड़पने के लिए करा दी थी। इस मामले में पुलिस ने एक अपराधी को धर दबोचा है। जबकि घटना के मास्टरमाइंड पड़ोसी उसी गांव के राजेन्द्र महतो व डबलू महतो समेत चार अपराधी अभी भी फरार है। इसका खुलासा एसपी पंकज कुमार ने सोमवार को प्रेस वार्ता में किया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार अपराधी देवेन्द्र महतो हसपुरा थाना के अहियापुर गांव का रहने वाला है। इसके पास से 315 बोर के एक देसी कट्‌ट व दो जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

एसपी ने बताया कि दाउदनगर थाना के मखरा टोले अयोध्या बिगहा गांव में 28 मई की रात 10 बजे हथियारबंद अपराधियों ने पूर्व अधिवक्ता सह गोह प्रखंड के हसामपुर पंचायत के रोजगार सेवक राजेन्द्र सिंह की हत्या कर दी थी। यह मर्डर मिस्ट्री काफी उलझी हुई थी। जिसे सुलझा लिया गया है। कई बार इस केस के आईओ मुकेश कुमार भगत पर अपराधियों के साथ सांठ-गांठ के आरोप भी लगे, लेकिन आईओ इससे बेपरवाह इस मर्डर मिस्ट्री में जुट गए। घटना के करीब 50 दिनों बाद हत्या का पूरा सच खोल दिया।

कई दिनों तक सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया। जिसमें एक अपराधी देवेन्द्र मेहता की पहचान हुई। फिर देवेन्द्र को धर दबोचा गया। देवेन्द्र से कड़ी पूछताछ हुई। जिसके बाद उक्त अपराधी ने पूरा सच खोल दिया। उसने बताया कि पीआरएस राजेन्द्र सिंह की जमीन गोतिया डबलू मेहता हड़पना चाहता था और उसी गांव के राजेन्द्र मेहता उसका दोस्त था और पीआरएस से उसकी खुन्नस थी। दोनों ने मिलकर उसकी हत्या की साजिश रची।

राजेन्द्र ने इस काम के लिए अपने फुफेरे भाई यानी उसे घटना की सुपारी दी। उसने बताया कि पीआरएस के घर में पांच लाख रुपया आने वाला है। अगर पैसा भी नहीं आया तो इस घटना को अंजाम देने के लिए एक लाख रुपया देगा। फिर पुलिस के हत्थे चढ़ अपराधी ने नरेश राजवंशी, गुड्‌डू राजवंशी, देवकुंड थाना के प्रयाग बिगहा टोले बंधुआ निवासी ओम प्रकाश राजवंशी को इसके लिए राजी किया। फिर रेकी कर दो दिन बाद घटना को अंजाम दिया।

खबरें और भी हैं...