पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

थम नहीं रहा पॉलीथिन उपयोग:कागजों पर ही सिमटा पॉलीथिन उपयोग और बिक्री पर प्रतिबंध, धड़ल्ले से हो रहा उपयोग

दाउदनगर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दाउदनगर में ग्राहक को पॉलीथिन में सब्जी देता दुकानदार। - Dainik Bhaskar
दाउदनगर में ग्राहक को पॉलीथिन में सब्जी देता दुकानदार।

पॉलीथिन के इस्तेमाल पर पाबंदी का शोर है। लेकिन दाउदनगर नगर परिषद क्षेत्र में पॉलीथिन धड़ल्ले से दौड़ लगा रही है। अधिकारी भी चंद दिनों की चौकसी दिखाने के बाद फिलहाल खामोश बैठे हैं। अभी भी 90 प्रतिशत दुकानदार व ग्राहक इसका धड़ल्ले से उपयोग कर रहे हैं। ऐसा भी नहीं है कि कार्रवाई नहीं हुई, लेकिन चंद दुकानदारों के पास से पॉलीथिन की बरामदगी के बाद विभाग ने सख्ती दिखाना मुनासिब नहीं समझा।

जिस नगर परिषद पर अमल कराने का दायित्व है, उनके अधिकारी फिलहाल उदासीन बने हैं। शहर में सब्जी मंडी से लेकर नाश्ते, मिठाई, दूध डेयरी, जनरल स्टोर, किराना स्टोर, कपड़े की दुकान आदि पर पॉलीथिन का उपयोग बड़े पैमाने पर हो रहा है। नगर परिषद के जिम्मेदारों के सामने भी दुकानदारों के द्वारा पॉलिथीन का उपयोग किया जा रहा है। लेकिन उसके बावजूद कार्रवाई नहीं हो रही है। इधर कई महीनों से तो छापेमारी भी नहीं की गई है। जिससे कि इसके उपयोग पर रोक लग सके। प्रतिबंध के बावजूद इसका धड़ल्ले से उपयोग होना यह साबित कर रहा है कि यह आदेश सिर्फ कागजों पर ही सिमट कर रह गया है।

दुकानदार बोले निर्माण रोकना चाहिए
दुकानदारों का कहना है कि पॉलीथिन का उपयोग तो सरकार ने बंद कर दिया है, लेकिन इसका विकल्प वह अभी तक नहीं दे पायी है। जो विकल्प है भी, वह काफी महंगा है। छोटे दुकानदारों के लिए जुट का थैला रखना संभव नहीं है। पॉलीथिन कैरी बैग का विकल्प क्यों नहीं? पॉलीथिन पर प्रतिबंध की घोषणा के बाद सरकार ने कैरी बैग के विकल्प पर कोई ध्यान नहीं दिया है। यही वजह है कि प्रतिबंध के बाद लोगों को पॉलीथिन के विकल्प का अब तक इंतजार बना हुआ है। ऐसे में पॉलीथिन का प्रतिबंध के बाद भी इस्तेमाल हो रही है। इसके अलावा इसके निर्माण पर पाबंदी लगाने की जरूरत है।

जनमानस की नहीं बदली मानसिकता
पर्यावरण विशेषज्ञों के अनुसार सरकार ने तो पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगा दिया है, लेकिन आम लोग अभी तक इसके लिए तैयार नहीं हुए हैं। वे आज भी बिना थैला लिए घर से निकलकर बाजार आ रहे हैं। जबकि होना यह चाहिए कि आम आदमी घर से थैला लेकर आए।

आमजन को खुद भी अपनी मानसिकता में बदलाव करना होगा। इसके लिए प्रशासन की ओर से जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है। जिस तरह से प्रशासन की ओर पॉलीथिन में सामग्री बेचने वाले दुकानदारों से जुर्माना वसूली हो रही है, उसी तरह पॉलीथिन में सामान की खरीदारी करने वाले उपभोक्ता पर भी जुर्माना का प्रावधान होना चाहिए। तभी यह अभियान सफल होगा।

जीवों के लिए हानिकारक है अमानक पाॅलिथीन
अमानक पाॅलिथीन के उपयोग न करने के लिए राज्य और केंद्र सरकार द्वारा कई नियम बनाए गए हैं। भारत सरकार के ठोस अपशिष्ट निवारण अधिनियम के तहत 40 माइक्रॉन से कम के मानक की थैली पर्यावरण को प्रदूषित करती है।

जानकारों का कहना है कि इस पॉलीथीन को रिसाइकल नहीं किया जा सकता है। जिससे यह प्रदूषण का कारण बनती है। सबसे ज्यादा नुकसान आवारा मवेशियों और जीव-जंतुओं को उठाना पड़ता है। पॉलीथिन में खाद्य सामाग्री ले जाने के बाद उसे सड़कों पर फेंक दिया जाता है। जिस वजह से उसे आवारा मवेशी खा लेते हैं। जो कि नुकसानदायक होता है।

पर्यावरण में घुल रहा जहर
प्रतिबंध के बाद भी बड़े पैमाने पर पॉलीथिन का इस्तेमाल हो रहा है। पॉलीथिन सब्जी मंडी, हाथ ठेलों, किराना, मीट, चाट-पकौड़ी की दुकानों में उपयोग होकर प्रदूषण का कारण बन रही है। नगर परिषद द्वारा सड़क के किनारे फेंक जा रहे कूड़ों में प्लास्टिक जलायी जा रही है। इससे पानी और हवा दोनों में जहर घुल रहा है।

बोले कार्यपालक पदाधिकारी
प्लास्टिक का उपयोग करने वाले दुकानदारों से पिछले वर्ष लगभग 19 हजार तक की वसूली की गई थी।फिर से छापेमारी शुरू किया जाएगा। वहीं लोगों को भी जागरूक किया जाएगा।-जमाल अख्तर अंसारी, कार्यपालक पदाधिकारी,नगर परिषद, दाउदनगर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें