पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देवी प्राण प्रतिष्ठा सह शतचंडी महायज्ञ:24 अप्रैल से करमा मिशिर में सत्यचंडी महायज्ञ का होगा शुभारंभ, वृदांवन से आएंगे कालाकार

औरंगाबाद शहर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बारूण प्रखंड के करमा मिशिर गांव में आगामी 24 अप्रैल से शोभा यात्रा के साथ ग्राम देवी प्राण प्रतिष्ठा सह शतचंडी महायज्ञ का शुभारंभ किया जाना है।इसके लिए गाँव के नवनिर्मित मंदिर में आकर्षक यज्ञशाला तैयार किया गया है। महायज्ञ के निर्बिघ्न संचालन के लिए स्थानीय लखनदेव सिंह को अध्यक्ष व कमलेश सिंह को सचिव बनाया गया है। इसके साथ ही अशोक सिंह को उप सचिव बनाया गया है।

अध्यक्ष ने बताया कि ग्रामीणों के सहयोग से गांव में देवी मंदिर का निर्माण कराया गया है। उक्त मंदिर में मां की प्रतिमा स्थापित किए जाने को लेकर मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा सह शतचंडी महायज्ञ का आयोजन किया जाना है।आचार्य महेन्द्र पांडेय के तत्वाधान में यज्ञ का आयोजन को लेकर तैयारी की जा रही है।

यज्ञाचार्य ने बताया कि शोभायात्रा के पश्चात पंचांग पूजन व 25अप्रैल रविवार से बुधवार तक देवी देवताओं का आह्वन के बाद विविधवास, नगर भ्रमण व देवदर्शन के साथ गुरुवार को ग्राम देवी की प्राण प्रतिष्ठा तथा शुक्रवार को पूर्णाहुति,ब्राह्मण भोजन,प्रसाद वितरण व दरिद्र नारायण भोजन कराया जाएगा।उन्होंने बताया कि संध्या में अयोध्या के रामकिंकर दास जी महाराज व अनुराधा सरस्वती आदि संत विद्वानों द्वारा प्रवचन का आयोजन किया जायेगा।

इसके बाद रात्रि में वृदांवन के कलाकारों द्वारा रासलीला का प्रदर्शन किया जायेगा। ग्रामीण यज्ञ मंडप को आकर्षक करने में जुटे हुए हैं। ग्रामीण बबलू सिंह, धर्मेंद्र सिंह, अरविंद सिंह, प्रवीण सिंह, विकास कुमार सिंह, संजीत सिंह, रिंटू सिंह, उमेश सिंह ,अभिमन्यु सिंह ,पिंटू सिंह ,विनय सिंह, धीरेंद्र सिंह समेत अन्य लोग आयोजन को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें