पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आस्था:सुहागिनों ने उपवास रखकर की वट वृक्ष की पूजा अर्चना, पति के दीर्घायु होने की मांगी मनोकामना

औरंगाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिलाओं ने सोलह शृंगार कर बरगद के पेड़ में धागा लपेटते हुए की परिक्रमा, वट वृक्ष को फल सामग्री भी की अर्पित
  • पूजा के दौरान सुहागिन महिलाओं में कोरोना संक्रमण का नहीं दिखा भय, वट वृक्ष के पास लगी भीड़

पति के दीर्घायु व सलामती की कामना करते हुए शुक्रवार को महिलाओं ने श्रद्धा के साथ वट सावित्री पूजा की। महिलाएं सोलह शृंगार कर बरगद के पेड़ के नीचे इकट्ठा हुई और वट वृक्ष में कच्चा धागा लपेटकर पति की दीर्घायु की कामना की। हालांकि लाॅकडाउन होने के कारण कई महिलाओं ने घरों पर ही गमले में बरगद पेड़ के पत्ते को रखकर पूजा अर्चना भी की। साथ ही पेड़ की जड़ में खीरा, खरबुजा, पकवान अर्पित करते हुए पूजा की और सुख समृद्धि मांगी।

वट सावित्री पूजा को लेकर शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी उत्साह देखने को मिला। सभी वट वृक्षों के पास पूजा करने वाली महिलाओं की भारी भीड़ लगी रही हुई। शहर के सत्येन्द्र नगर मुहल्ला, योद्धा नगर, क्लब रोड, शाहपुर मुहल्ला, श्रीकृष्ण नगर अहरी, न्यू एरीया सहित अन्य मुहल्लों में वट वृक्ष के नीचे महिलाएं पूजा करते हुए दिखी। सुबह से ही महिलाएं पूजा करने को लेकर उत्साहित थी। वट सावित्री के पूजन के साथ-साथ यमराज का भी पूजन की गई। पूजन के बाद महिलाओं ने दान किया। ।
वट सावित्री पूजा के दौरान सोशल डिस्टेंस भूली महिलाएं: वट सावित्री पूजा के दौरान सुहागिन महिलाओं में कोरोना संक्रमण का भय नहीं दिखा। इन महिलाओं ने पति के प्रेम में कोरोना के डर को भी मात दे दिया। वट सावित्री पूजा को लेकर शुक्रवार को सुबह-सुबह ही महिलाओं का हुजूम निकल पड़ा। महिलाएं अपने घरों से निकलकर आसपास के लगे बरगद पेड़ के नीचे पहुंच गए और विधि विधान के साथ बेखौफ होकर वट सावित्री का पूजा अर्चना कर पति की लंबी उम्र की मंगल कामना की तथा परिवार के सुख समृद्धि के लिए प्रार्थना किया। हालांकि इस दौरान कई जगहों पर लॉक डाउन व शारीरिक दूरी की बंदिशें टूटती नजर आई। एक तरह से कहा जाए तो कोरोना वायरस पर वट सावित्रि पूजा का उत्साह भारी पड़ता दिखा। 
घरों में जाकर पति से लिया आशीर्वाद, लगाया तिलक
बरगद के पेड़ की पूजा के बाद व्रत की महिलाओं ने सावित्री व सत्यवान की कहानी एक दूसरे को सुनाकर पति को जीवित कराने का वृतांत सुनाया। इसके बाद सामूहिक रूप से भजन कीर्तन की इसके बाद घरों में पहुंचकर पहले पति को तिलक लगाया। इसके बाद पंखा डोलाया और प्रसाद खिलाकर पति से आशिर्वाद मांगा। पतियों ने भी खुशी-खुशी अपनी पत्नियों को सौभाग्यवती का आशिर्वाद दिया। वट पूजा काे लेकर घरों में विशेष पकवान भी बनाए गए थे। 
शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र तक पर्व की दिखी धमक 
जिले के दाउदनगर, ओबरा, हसपुरा, गोह, रफीगंज, नवीनगर, देव, मदनपुर, कुटुम्बा, बारूण प्रखंड मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में वट सावित्री पूजा को लेकर खासा उत्साह देखने को मिला। गांवों से लेकर प्रखंड मुख्यालयाें में सुबह से ही वट की पूजा करने के लिए महिलाएं जुटने लगी थी। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें