कोर्ट का फैसला:हर्ष फायरिंग कर जान लेने वाला दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई

औरंगाबाद सदरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हर्ष फायरिंग कर युवक की जान लेने वाला एक आरोपी को कोर्ट ने आखिरी सांस तक की सजा सुनायी है। इसके साथ-साथ 25 हजार रुपए जुर्माना लगाया है। जुर्माना न देने पर 6 माह की अतिरिक्त सजा होगी। सजा सुनते ही आरोपी कोर्ट परिसर में फफक पड़ा और सजा कम करने की गुहार लगाने लगा। यह सजा औरंगाबाद सिविल कोर्ट के एडीजे-15 अमित कुमार सिंह ने नवीनगर थाना कांड संख्या 75/15 व सेसन ट्रायल संख्या 86/16 में सुनवाई करते हुए आरोपी को दोषी करार दिया है।

आरोपी स्वामी सिंह उर्फ विनोद सिंह नवीनगर थाना क्षेत्र के करमडीह गांव का रहने वाला है। उक्त आरोपी को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 में आजीवन कारावास और 25 हजार रुपए जुर्माना लगाया है। जुर्माना न देने पर छह माह की अतिरिक्त सजा होगी। 27 आर्म्स एक्ट में पांच साल सश्रम कारावास व पांच हजार जुर्माना लगाया है।

जयमाला के दौरान दोषी किया था फायरिंग
अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि मामले में मृतक के भाई करमडीह निवासी शत्रुध्न ठाकुर ने नवीनगर थाना में एफआईआर दर्ज कराया था। जिसमें बताया गया है कि 10 जून 2015 को गांव के ही अवधेश सिंह के बेटी की शादी था। जयमाला का कार्यक्रम चल रहा था। उसी दौरान दोषी स्वामी सिंह उर्फ विनोद सिंह फायरिंग किया। गोली जाकर शत्रुध्न के भाई राजू को लगी। जिससे मौके पर ही वह बेहोश होकर गिर पड़ा। तत्काल उसे इलाज के लिए ले जाया गया, लेकिन उसकी मौत हो गई थी। जिसके बाद थाना में एफआईआर दर्ज कराया गया। छह साल बाद कोर्ट का फैसला आया। कोर्ट के फैसला से मृतक के परिजनों में हर्ष है।

खबरें और भी हैं...