पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:सड़क बनाने की अवधि पूरी होने के बाद भी नहीं बनी भूरा से मिल्की तक की सड़क

वजीरगंज7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 35.44 लाख की लागत से बननी है सड़क, मेन्टेनेन्स के लिए भी 9.38 लाख

ग्रामीण विकास मंत्रालय अंतर्गत मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना की भूरा से मिल्की गांव तक की सड़क निर्माण कार्य की अवधि पूरी होने के बाद भी नहीं बन सकी है। कार्य स्थल पर लगी विभागीय बोर्ड के अनुसार गत वर्ष की इस सड़क का निर्माण कार्य पूरा हो जाना था। पंचायत में लाखों की लागत से इस 2.44 किलोमीटर लंबी पक्की सड़क का निर्माण किया जाना है।

इस कार्य के कार्यकारी एजेंसी ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता हैं। जबकि संवेदक अमित कुमार हैं। 35.44 लाख की लागत से भूरा गांव से लेकर मिल्की गांव तक 2.44 किलोमीटर लंबी पक्की सड़क के निर्माण की जानी थी। जिसकी कार्य प्रारंभ की तिथि 19 सितंबर 2019 और कार्य समाप्ति की तिथि 18 सितंबर 2020 प्रस्तावित थी। लेकिन एकरारनामा के अनुसार सड़क निर्माण पूर्ण होने की अवधि के एक वर्ष बाद भी यहां की सड़क नहीं बन पाई है़। संवेदक द्वारा प्रारंभ में बोल्डर पत्थर डालकर छोड़ दिया गया है़।\

पक्की गली-नाली नहीं रहने के चलते बरैनी गांव के लोग हैं काफी परेशान
प्रखंड के दखिनगांव पंचायत की बरौनी गांव के लोग आजादी के सात दशक बाद भी मूलभूत सुविधाओं सहित एक अदद पक्की गली के लिए तरस रहे हैं। जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों के आश्वासन के बाद भी आज तक यहां पक्की गली नहीं बन पाई है। जिसके कारण लोग बरसात में कीचड़ भरे रास्ते से जाने को मजबूर है। यहां महादलित अतिपिछड़ी व पिछड़ी जाति के 80 घर मिलाकर कुल 500 लोग निवास करते है।

जिसमे अधिकतर लोगो की जीविका मजदूरी है। बरौनी गांव निवासी जुगेश्वर यादव, गणेश दास, डॉ. विनोद करुणाकर बताते है कि पक्की सड़क सहित प्राथमिक विद्यालय भवन के अभाव मे मध्य विद्यालय दखिन गांव में शिफ्ट कर दिया गया है। मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के अन्तर्गत जल नल का पाइप तो यहां बिछा दिया गया है नल भी घर घर पहुंचा दिया गया है लेकिन आज तक एक भी बूंद पानी ग्रामीणों को नसीब नहीं हुआ है। पक्की गली और पक्की नली का भी निर्माण नहीं किया गया है। ग्रामीणों ने पक्की गली के निर्माण को लेकर पिछले कई सालों से पंचायत मुखिया से लेकर विधायक सहित अन्य विभागीय पदाधिकारियों के पास फरियाद करके आजीज हो चुके है और ग्रामीणों मे क्षोभ व्याप्त है।

खबरें और भी हैं...