आसमानी आफत:खेत में काम कर रहे दो किसान समेत तीन पर गिरा ठनका,तीनों की मौत

औरंगाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद अस्पताल में परिजन - Dainik Bhaskar
घटना के बाद अस्पताल में परिजन
  • पहली वाजिदपुर व दूसरी नेवती व तीसरी घटना शिहूडी गांव की

शनिवार की शाम अलग-अलग तीन प्रखंडों में खेत में काम कर रहे 2 किसान और एक मजदूर पर अचानक ठनका गिर गया। जिसके कारण तीनों की झुलस कर मौत हो गई। पहली घटना मदनपुर थाना के वाजिदपुर गांव की है। जबकि दूसरी घटना मुफस्सिल थाना के नेवती गांव की है। तीसरी घटना ओबरा थाना क्षेत्र के शिहूडी गांव की है।

घटना के बाद तीनो गांवों में कोहराम मच गया। मृतकों में मदनपुर थाना के वाजिदपुर गांव निवासी 55 वर्षीय श्यामदेव राम व मुफस्सिल थाना क्षेत्र के नेवती गांव निवासी 20 वर्षीय शैलेंद्र यादव व ओबरा के शिहूडी गांव निवासी कासिम शाह के 30 वर्षीय पुत्र राजू शाह का नाम बताया जा रहा है।

तीनों के शवों को पुलिस पोस्टमार्टम करा कर परिजनों को सौंप दिया है। घटना के बाद से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। बताते चलें कि मौसम विभाग अगले 24 घंटे तक बारिश के साथ वज्रपात का अलर्ट जारी किया है। लिहाजा आप अपने घरों में ही सुरक्षित रहें।

मौसम विभाग का अभी भी अलर्ट, घरों में रहे गिर सकता है ठनका

खेत में कुदाल चला रहा था श्यामदेव, वज्रपात से मौत
मदनपुर थाना के वाजिदपुर गांव निवासी 55 वर्षीय श्यामदेव राम अपने खेत में कुदाल चला रहे थे। तभी अचानक हवा के साथ तेज बारिश आ गई, लेकिन श्यामदेव बारिश में भी काम करते रहे उन्हें क्या मालूम था कि ऊपर से आसमानी बिजली उन पर गिरने वाली है।

वे काम में मशगूल थे। तभी अचानक उनके ऊपर ठनका गिर गया। जिससे झुलसकर मौके पर ही उसकी मौत हो गई। यह घटना देखकर आसपास में काम कर रहे किसानों ने शोर मचाया। तत्काल इसकी सूचना ग्रामीणों को दी गई और परिवार वालों को भी बताया गया।

खेत में काम कर रहे शैलेन्द्र पर गिरा ठनका
20 वर्षीय युवा किसान शैलेन्द्र शनिवार की शाम खेत में काम कर रहा था। अचानक तेज गरज के साथ बारिश शुरू हो गई, लेकिन वह काम करता रहा। इसी दौरान शैलेंद्र पर ठनका गिर गया। जिसके कारण वह बुरी तरह झुलस कर दम तोड़ दिया। घटना के बाद परिजनों ने इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया। हालांकि उसकी मौत खेत में ही हो गई थी, लेकिन परिजनों को भरोसा नहीं था। सदर अस्पताल में डॉक्टरों ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया।

पत्नी के हाथ की मेहंदी भी नहीं सूखी थी
शैलेंद्र पर ही नहीं। उसके परिवार पर ही आसमानी बिजली गिर गई। दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। क्योंकि शैलेंद्र की दुनिया ही उजड़ गई। पिछले महीने ही शैलेंद्र की शादी हुई थी। उसकी पत्नी के हाथ की मेहंदी भी अभी नहीं सूखी थी कि पति की अर्थी उठ गई।

घटना के बाद से पत्नी रो-रो कर बेसुध हो रही है। 2 मिनट के लिए वह होश में आ रही है और फिर बेसुध हो जा रही। उसकी यह हालत देखकर उसके परिवार ही नहीं हर लोगों की आंखें नम हो जा रही है। हर कोई यही बोल रहा कि भगवान ने यह दुख उसके परिवार को क्यों दिया। अब उसकी नई नवेली दुल्हन कैसे रह पाएगी।

खबरें और भी हैं...