गर्भवती महिलाओं की गोद भराई:स्वस्थ जच्चा व स्वस्थ बच्चा कार्यक्रम के तहत की गई गोदभराई, शिशु व मातृ मृत्यु दर में कमी लाना है मकसद

बछवाड़ा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड क्षेत्र के सभी संचालित आंगनवाड़ी केन्द्रों पर सेविकाओं ने शुक्रवार को गर्भवती महिलाओं का गोदभराई की। इसमें गर्भवती महिलाओं की गोद भराई की गई। सेविकाओं ने उपस्थित गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों की देखभाल को लेकर विस्तृत जानकारी दी। सेविकाओं ने बताया कि गोदभराई का मुख्य उद्देश्य गर्भावस्था के दौरान बेहतर पोषण की आवश्यकता से महिलाओं को अवगत कराना है। माता एवं गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य एवं प्रसव के दौरान होने वाली संभावित जटिलताओं में कमी लाने लाने के लिए गर्भवती के साथ परिजनों को भी अच्छे पोषण पर ध्यान देना चाहिए।

बेहतर पोषण एक स्वस्थ बच्चे के जन्म में सहायक होने के साथ गर्भवती महिलाओं में मातृ मृत्यु दर में कमी भी लाता है। गर्भावस्था के दौरान शरीर को अधिक पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इस दौरान आहार में प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट के साथ वसा की भी मात्रा का होना जरूरी होता है। कोरोना काल को देखते हुए गभर्वती के स्वास्थ्य का विशेष रूप देखभाल और एम्युनिटी विकसित करने पर ध्यान देने की जरूरत पर बल दिया गया ।गर्भवती महिलाओं को परंपरागत तौर पर लाल चुनरी ओढ़ाकर कार्यक्रम में अनाज, फल, सब्जी, आयरन फोलिक एसिड एवं कैलशियम के टेबलेट सहित अन्य विटामिन युक्त सामग्री से गोदभराई की गई। एल एसपद्मावती किरण, हेमलता सहित सभी केन्द्र का माॅनिटरिंग की। मौके पर सेविका कोमल कुमारी, उषा देवी, संगीता कुमारी, कमरून निशा बेग सहित सहायिका और अभिभावक माताएं आदि मौजूद थीं।

खबरें और भी हैं...