एजस्टिस फाउंडेशन ने की पहल:मध्य विद्यालय बीहट के बच्चों ने वाद- विवाद, पेंटिग व क्विज में लिया भाग

बरौनी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीहट के मध्य विद्यालय में बच्चों से बात करती और सम्मानित होती मुस्कान। - Dainik Bhaskar
बीहट के मध्य विद्यालय में बच्चों से बात करती और सम्मानित होती मुस्कान।
  • ज्ञान–दान के तहत मध्य विद्यालय बीहट में एजस्टिस फाउंडेशन ने की पहल

ए जस्टिस फाउंडेशन द्वारा शुरू की गई पहल ज्ञान–दान के अंतर्गत राजकीयकृत मध्य विद्यालय बीहट में गुरुवार को एजस्टिस के प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर तथा टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस की पोस्ट ग्रेजुएट मुस्कान द्वारा कक्षा 5 से 8 तक के छात्र–छात्राओं के साथ कार्यशाला का आयोजन किया गया।

विद्यार्थियों में पढ़ाई के साथ–साथ उनके सर्वांगीण विकास पर आधारित कार्यशाला बच्चों के लिए काफी प्रभावी रहा। बच्चों में बढ़ते मोबाइल पर गेम खेलने की बढ़ती लत को नियंत्रण में लाने एवं उन्हें इसके नकारात्मक प्रभाव से अवगत कराने हेतु कार्यशाला में आयोजित वाद–विवाद का भी आयोजन किया गया।

जिसमे छात्र–छात्राओं ने बढ़–चढ़कर हिस्सा लिया। बच्चों को इस बात का एहसास है की इसके अत्यधिक प्रयोग से उनकी एकाग्रता बाधित हो रही है तथा उनके आंखों पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ रहा है, किंतु इसके बाद भी वे गेम की लत से बाहर आने में खुद को असमर्थ पाते हैं। इस पर मुस्कान ने उन्हें 21 दिन के महत्व से अवगत कराते हुए बताया कि कैसे किसी भी अच्छी या बुरी आदत को लगने या हटाने के लिए 21 दिन का महत्वपूर्ण योगदान होता है। इसके साथ–साथ कक्षा पांचवीं एवं छठवीं के विद्यार्थियों के लिए पेंटिंग, क्विज़ एवं कविता रचना का भी आयोजन किया गया।

बच्चों में पढ़ाई को लेकर उत्साह एवं विद्यालय में उनकी उपस्थिति बनाए रखने का श्रेय मुस्कान ने विद्यालय की पूरी टीम को दिया। मुस्कान कहती हैं कि विद्यालय प्रधान रंजन कुमार के निर्देशन व शिक्षक अनुपमा सिंह के संयोजन में संचालित मध्य विद्यालय, बीहट के बच्चों की मॉर्निंग असेंबली बहुत ही विशिष्ट और मॉडल रूप में है।

मुस्कान ने कहा कि मैं प्रभावित हूं और मेरा मानना है कि बिहार के सभी सरकारी विद्यालयों में मॉर्निंग असेम्बली को ऐसे स्वरूप में अपनाया जाना चाहिए। विद्यालय प्रशासन की ओर से मुस्कान को असेम्बली में शॉल उढ़ाकर सम्मानित किया गया। विद्यालय प्रधान रंजन कुमार ने इस संदर्भ में एडजस्टिस फाउंडेशन व उसके फाउंडर लीडर संजय कुमार सिंह के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सरकारी स्कूलों में एक मिशन की तरह स्वयंसेवी भाव से ज्ञानदान जैसे कार्यक्रम आनेवाले समय में यहां पढ़ने वाले विद्यार्थियों को देश और दुनिया से जोड़ने के साथ उनकी सीखने की क्षमता को व्यापक फलक देने हेतु काफी महत्वपूर्ण व उपयोगी साबित होगा ।

खबरें और भी हैं...