आयोजन:जच्चा-बच्चा पोषण को सेविकाओं ने महिलाओं की गोद भराई कराई

बरौनी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खोदावंदपुर में गर्भवती महिला की गोद भराई करती सेविका। - Dainik Bhaskar
खोदावंदपुर में गर्भवती महिला की गोद भराई करती सेविका।
  • गर्भवती महिला और शिशुओं की बेहतर स्वास्थ्य प्रबंधन को लेकर दी जानकारी

गर्भवती महिला और शिशुओं की बेहतर स्वास्थ्य प्रबंधन को लेकर प्रखंड क्षेत्र की आंगनबाड़ी सेविकाओं ने अपने-अपने पोषक क्षेत्र में शनिवार को गर्भवती महिलाओं की गोद भराई की। इस अवसर पर सेविकाओं द्वारा गर्भवती महिलाओं के घर रंगोली बनाकर कार्यक्रम स्थल को सजाया गया।

समारोह में गर्भवती महिला एवं गर्भस्थ शिशु के पोषण लिए महिलाओं द्वारा समूह स्वर में मंगल गीत गायन किया गया। गोद भराई रस्म में पोषक क्षेत्र के गर्भवती महिलाओं सहित दर्जनो अन्य महिलाओं ने भाग लिया। सेविकाओं के द्वारा गर्भवती महिलाओं के सम्मान में उसे चुनरी ओढा तिलक लगाकर गर्भस्थ शिशु की बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए गोद मे पोषण संबंधी पुष्टाहार फल सेव, संतरा, बेदाना, दूध, अंडा दाल हरा सब्जी आदि सेवन करने का तरीका बताया गया।

साथ ही गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को आयरन की गोली खाने के लिए सलाह दी। सीडीपीओ किरणबाला दिवाकर ने बताया कि गर्भवती महिला को अपनी कोख में गर्भस्थ शिशु सुरक्षित रखने के लिए उन्हें काफी लंबा समय गुजारना पड़ता है।

महिलाओं को बताया कि प्रसव पूर्व ऐसे करें तैयारी
कभी कभी जानकारी के अभाव में उसके साथ अप्रिय घटना घट जाती है और वह मातृत्व सुख से वंचित रह जाती है। गर्भवती पीरियड से गुजर रही महिला अविलम्ब जानकारी निकट के आंगनबाड़ी सेविका, आशा या फिर एएनएम को दें।
साथ ही उसके सहयोग से निकटतम स्वस्थ्य केंद्र पर अपना चेकअप कराएं। महिला पर्यवेक्षिका उषा कुमारी ने बताया कि वह अपने परिजनों से मिलकर प्रसव पूर्व तैयारी अवश्य करें। हमेशा संस्थागत प्रसव ही करावें।

प्रसव पूर्व तैयारी के बावत उन्होंने बताया कि घर मे अपने परिजनों से मिलकर कुछ रुपए, अपने ब्लड ग्रुप से मिलने वाले लोगों की पहचान, एम्बुलेंस वाले का नंबर जरूर रखना चाहिए। नए ब्लेड, धागा, साबुन, डिटोल या एन्टीसेफ्टिक लिक्विड से साफ कपड़े की गट्ठर तैयार कर रख लेना चाहिए।

महिलाओं को जानकारी दी गई कि गर्भावस्था के दौरान किसी भी कीमत पर अपने पोषण से समझौता नहीं करें। उचित खानपान से ही बच्चा स्वस्थ रहेगा और माताओं के भी स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ेगा। इस दौरान बताया गया कि मां जो खाना खाती है वही गर्भ में पल रहे बच्चे का भी आहार होता है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान इसका ख्याल रखें।

पोषण अभियान के तहत गोदभराई उत्सव
बाल विकास परियोजना पदाधिकारी पूनम कुमारी एवं महिला पर्यवेक्षिका डा स्मिता कुमारी के द्वारा शनिवार को पीपरा देवस बाबा स्थान केंद्र कोड संख्या 4 पर विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया गया। इस अवसर पर जिला कंसल्टेंट पुष्पांजलि कुमारी ने साफ-सफाई और वृद्धि निगरानी के उपर विस्तार पूर्वक चर्चा की।

वहीं बाल विकास पदाधिकारी पुनम कुमारी ने शिशु के जन्म 1 घण्टे के अंदर मां का गाढ़ा पीला दूध शिशु को पिलाने की सलाह दी। गर्भवती महिलाओं के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना प्रधान मंत्री मातृत्व वंदना योजना, कन्या उत्थान योजना एव जेएसवाई योजना की भी विस्तार पूवर्क जानकारी दी।

कहा कि गर्भवती महिलाओं को प्रधान मंत्री मातृत्व वंदना योजना के अंतर्गत तीन क़िस्त करके 5 हजार रुपए पाैष्टिक आहार, फल आदि के लिए लाभार्थी के खाता पर भेजा जाता है, इसका अधिक से अधिक लाभार्थी लाभ अवश्य उठाएं। वहीं पिरामल फाउंडेशन के बीटीओ कृष्ण कुमार पोद्दार ने गोद भराई उत्सव के दौरान गोदभराई के विषय पर बताया कि गर्भवती महिलाओं को जैसे ही गर्भ का पता चले, उन्हें अतिशीघ्र रजिस्ट्रेशन करवाना है।

खबरें और भी हैं...