पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

घरों में घुसा पानी:रमजानपुर में तालाब पर अतिक्रमणकारियों ने किया कब्जा

बरबीघा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले कई वर्षों से घुटने भर पानी में होकर आ-जा रहे लोग, अधिकारी-जनप्रतिनिधि कोई नहीं ले रहे हैं सुधी

बरबीघा प्रखंड की सामस बुजुर्ग पंचायत के रमजानपुर गांव में वर्षों पुराने तालाब पर अतिक्रमणकारियों के कब्जे के कारण गांव के कुछ हिस्सों के घरों में पानी घुस गया है। घरों के आंगन में पानी घुसने के कारण वर्षों से लोग घुटने भर पानी से होकर ही घर से बाहर और अंदर आ जा रहे हैं। परेशान लोग इस मामले को लेकर स्थानीय मुखिया, विधायक और प्रशासन को कई बार अवगत करा चुके हैं। मामला सब कुछ साफ होने के बावजूद भी ना तो प्रशासन ने कोई कार्यवाही की नहीं प्रतिनिधियों ने कोई संज्ञान लिया।

दरअसल, गांव के पूर्वी छोर पर काली तालाब में अधिकांश गांव के लोगों के घरों के नालियों का पानी उसमें गिरता था। तालाब में पानी भरने के बाद उसके निकास के लिए तालाब के उत्तरी छोर पर स्थित एक नहर से जोड़ा गया था।

लेकिन इधर हाल के वर्षों में कुछ अतिक्रमणकारियों ने तालाब के चारों तरफ कब्जा करके घर बना लिया है जिसके कारण पानी का निकास पूरी तरह से बंद हो गया है। इस संबंध में ग्रामीण नीलम देवी, सुमित्रा देवी, झालो देवी, पार्वती देवी आदि महिलाओं ने बताया कि पानी का निकास नहीं होने से गंदे नाले का पानी अब घरों के आंगन में घुटने भर से ऊपर जमा हो गया है। पानी का निकास नहीं होने से घर में अक्सर सांप-बिच्छू के साथ अन्य प्रकार के कीड़े-मकोड़े प्रवेश कर जाते हैं।

बड़े के साथ-साथ बच्चे उसी पानी से होकर घर से बाहर और अंदर आते जाते हैं। वही डर के साए में लोगों की जिंदगी कट रही है। लोगों को यह परेशानी पिछले कई वर्षों से हो रही है लेकिन उनकी फरियाद को आजतक प्रशासन अनसुनी करता रहा है। स्थानीय मुखिया से लेकर विधायक और अंचलाधिकारी तक को पता है कि तालाब अतिक्रमणकारियों के कब्जे में है लेकिन उसे मुक्त कराने में उन लोगों के बरसों से पसीने छूट रहे हैं।

गांव के मुख्य रास्ते की हालत भी वर्षों से जर्जर
ग्रामीण मो.सबा करीम ने बताया कि कई बार गांव में जिला प्रशासन पुलिस लेकर आए लेकिन अतिक्रमणकारियों के डर से बैरंग वापस लौट गई। जल जीवन हरियाली योजना के तहत तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराने का दावा करने वाली जिला प्रशासन की ऐसी लाचारी शायद ही कहीं देखने को मिलेगी। प्रशासन की लाचारी और प्रतिनिधियों की अनदेखी का परिणाम है कि ग्रामीण नारकीय जीवन जीने को विवश हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा गांव के मुख्य रास्ते की हालत भी वर्षों से जर्जर है।

गांव में चार पहिया वाहन का प्रवेश भी मुश्किल हो गया है। जर्जर सड़क पर प्रत्येक दिन छोटी बड़ी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो रही है। गांव के अधिकांश वार्ड में आज तक नल का जल नहीं पहुंच पाया है। पिछले चुनाव के समय बड़े-बड़े वादे करके चुनाव जीतने वाले प्रतिनिधि पिछले 5 वर्षों में शायद ही गांव में कदम भी रखे होंगे। ग्रामीणों ने बताया कि सरकार ने विकास के नाम पर सिर्फ ग्रामीणों को ठगने का काम किया है और गांव आज भी काफी पिछड़ा हुआ है। पूरे गांव में प्रतिनिधियों और प्रशासन के प्रति आक्रोश साफ देखा जा सकता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें