माले की हुई बैठक, दिया चेतावनी:फुटकर दुकानदारों व रेलवे किनारे बसे भूमिहीनों के लिए स्थायी व्यवस्था करे प्रशासन

बेगूसराय22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फूटकर दुकानदारों व रेलवे किनारे बसे भूमिहीनों को स्थायी जगह देने सहित 21 सूत्री मांगों पर आंदोलन की रणनीति बनाने के लिए माले नगर कमिटी की बैठक जिला कार्यालय कमलेश्वरी भवन में हुई। शनिवार को शहीद जवानों, किसानों, कोरोना से मृत व्यक्तियों व जहरीली शराब पीकर मरे लोगों को श्रद्धांजलि देने के साथ सुरेश पासवान की अध्यक्षता में माले की बैठक शुरु हुई।

बैठक में जन समस्याओं से निपटने के लिए जन आंदोलन खड़ा करने और पार्टी को मजबूत करने के लिए 21 अक्टूबर को सदस्यता सह प्रशिक्षण का प्रस्ताव पारित किया गया। मौके पर नगर सचिव राजेश श्रीवास्तव ने कहा कि जनसमस्याओं को कम करने के बदले सरकारी दफ्तरों को भ्रष्टाचार के दलदल में धकेल दिया गया है। जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है।

उन्होंने बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य जैसी बुनियादी आवश्यकताओं को नजरअंदाज कर बिहार को बर्बादी की ओर ले जाने का आरोप सरकार पर लगाया। माले नेताओं ने कहा कि नगर निगम क्षेत्र में दर्जनों स्वास्थ्य उपकेंद्र वर्षों से बंद हैं, कोरोना काल में रोजी रोटी गंवा चुके लोगों के पास रोजगार के लिए पैसे नहीं हैं। सदर अंचल कार्यालय के आरटीपीएस में रिश्वतखोरी चरम पर है।

बिजली विभाग की मनमानी से लोग परेशान हैं। नल-जल योजना, वास-आवास योजना, ऋण योजना सहित सरकार की सभी योजनाओं पर पानी फिर गया है। नीतीश कुमार के सात निश्चय योजना आँसू बहा रहा है। उन्होंने फुटकर दुकानदारों व रेलवे लाईन के किनारे बसे भूमिहीनों को अविलंब स्थाई करने एवं वार्ड-44के नयाटोला और वार्ड-45के बाजितपुर में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने की मांग जिला प्रशासन से की है।

अन्यथा जनांदोलन झेलने की चेतावनी दिया है। बैठक में नूरूल इस्लाम जिम्मी, मुशहरी पासवान, मोहम्मद अकरम, अर्जून सदा, कौशल पंडित, भूषण भारती, प्रमोद कुमार राय, गणेश साह, सत्यम पाठक, बिनय कुमार अम्बष्ठ, धनंजय झा, रंजू देवी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...