पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उपमुख्यमंत्री से शिकायत की:उपमुख्यमंत्री से मनरेगा में धांधली की शिकायत की, आरोप- डीएम ने शिकायत पर नहीं की पहल

बेगूसराय13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में मनरेगा विभाग अब रोजगार के लिए नहीं बल्कि धांधली के लिए अधिक प्रसिद्ध हो गया है। एक योजना में धांधली की रिपोर्ट आने के बाद दूसरी योजना की रिपोर्ट आ जाती है, लेकिन कार्रवाई के नाम पर डीडीसी से लेकर डीएम तक हाथ खड़े किए हुए है।

जिले के लगभग हरेक प्रखंड में मनरेगा के तहत विभिन्न योजनाओं में गड़बड़ी की लगातार शिकायतें की जा रही है। लेकिन आजतक कार्रवाई कुछ भी नहीं हो सकी है। मंसूरचक में मनरेगा के तहत हुई धांधली की शिकायत के दो माह बाद भी जब डीएम ने किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की तो अंत में शिकायतकर्ता ने उप मुख्यमंत्री से उक्त मामले में कार्रवाई की मांग की है।

भाजयूमो के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य ब्रजेश कुमार ने मंसूरचक प्रखंड के समसा-2 पंचायत में हुई धांधली की शिकायत डीएम से की थी। जिसमे सामाजिक वानिकी योजना और मनरेगा योजना में धांधली और भष्ट्राचार की जांच कराने को लेकर 12 जुलाई को डीएम को उक्त विषय के बारे में आवेदन दिए थे।

लेकिन डीएम ने पिछले दो माह में किसी प्रकार की जांच नहीं की। जिसके बाद थक कर शिकायत कर्ता ने मंगलवार को बेगूसराय पहुंची बिहार की उपमुख्यमंत्री रेणु देवी को आवेदन देकर मामले से अवगत कराया है। ब्रजेश ने अपने आवेदन में समसा-2 पंचायत में हुए सामाजिक वानिकी योजना के कार्यों की स्थलीय जांच की मांग की है।

साथ ही आरोप लगाया है कि वहां पर 80 प्रतिशत स्थल पर योजनाओं में बांस का घेराव नहीं लगाया गया है। चापाकल निम्न कोटि का लगाया गया है, मानक प्राक्कलन के अनुसार आपूर्तिकर्ता द्वारा सामान की आपूर्ति नहीं गई है। इसके अलावे पौधों की गुणवत्ता और खाद की जांच करने, मनरेगा पशु शेड की स्थलीय जांच करने की मांग की है।

अभी तक एक ही शेड का निर्माण हुआ है
इसके अलावे कहा है कि ग्राम प्रधान के द्वारा अपने व्यक्तिगत लाभ से एक परिवार के सभी सदस्य को पशु शेड दिया गया, लेकिन एक ही शेड का निर्माण हुआ है। साथ ही मनरेगा अंतर्गत शौचालय निर्माण की जांच करने, ईट सोलिंग कार्य की जांच करने, मनरेगा अंतर्गत तालाब निर्माण की स्थलीय जांच करने की मांग की है।

साथ ही कहा है कि वहां एक ही परिवार के सभी सदस्य के नाम से तालाब निर्माण किया गया है। सामाजिक वानिकी योजना का क्रियान्वयन अधिकांशतः एक ही परिवार के सभी सदस्य के द्वारा किया गया है

खबरें और भी हैं...