पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नियोजन प्रक्रिया:310वें मेधा क्रमांक वाले अभ्यर्थी का 42वें नंबर पर की काउंसिलिंग, घर पहुंच कागज में कर दिया 310

बेगूसराय20 दिन पहलेलेखक: संदीप कुमार
  • कॉपी लिंक

काउंसलिंग कर रहे शिक्षक तथा पंचायत सचिव की मिलीभगत से 310वें मेधा क्रमांक वाले अभ्यर्थी की काउंसलिंग 42वें नंबर पर कर ली गई। नियोजन प्रक्रिया को सही दिखाने के लिए तथा बाद में डॉक्यूमेंट में सुधार कर उसका मेधा क्रमांक फिर 310 कर दिया गया।

इसी बीच इस गड़बड़ी का पता एक शिक्षक को लगा तो उसने गलती उजागर कर उस अभ्यर्थी के बदले अपने भतीजे को काउंसलिंग कर नियोजित करने की जुगत भिरानी शुरू कर दी। काउसलिंग के दौरान 69 प्रतिशत अंक वाले एक शिक्षक अभ्यर्थी जिनका मेधा क्रमांक 310 था।

गलत तरीके से 42 क्रमांक वाले शिक्षक अभ्यर्थी की जगह पहले उनका काउंसलिंग कर लिया गया। बाद में फार्म जमा होने के बाद उनका क्रमांक सुधार कर फिर 310 अंकित कर दिया गया। यानि काउंसलिंग के हिसाब से जिस वक्त 310 मेधा क्रमांक वाले शिक्षक का 42वें स्थान के शिक्षक के जगह काउसलिंग की जा रही थी, उस समय बांकी के शिक्षक अनुपस्थित थे।

सांख से कदाचार की शुरुआ

मालूम हो कि पंचायत शिक्षक नियोजन के लिए काउंसलिंग में इस बार सांख पंचायत से कदाचार की शुरूआत हुई है। सबूत सार्वजनिक नहीं करने के शर्त पर एक शिक्षक ने बताया कि मेधा सूची में गड़बड़ी का मामला आने के बाद हर कोई रुपए देकर भी अपने अभ्यर्थी को लाभ दिलाने के चक्कर में है। जबकि कुछ लोग इस काउसलिंग को ही दोबारा कराने की मांग कर रहे हैं।

डीईओ बोले- फाइल मंगवायी है
^इस संबंध में जब जिला शिक्षा पदाधिकारी से बात की गई तो उन्होनें कहा कि जानकारी मिली है। फाइल मंगवाया गया है, किसी भी हाल में कदाचार मुक्त नियोजन कराने के लिए शिक्षा विभाग प्रयासरत है।

खबरें और भी हैं...