विदाई समारोह:पहले पदाधिकारी बेगूसराय आना नहीं चाहते, आते हैं तो फिर जाना नहीं चाहते

विदाई समारोहएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा के विदाई समारोह में उपस्थित लोग। - Dainik Bhaskar
जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा के विदाई समारोह में उपस्थित लोग।
  • बेगूसराय से स्थानांतरित होने पर जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा ने सम्मान सह विदाई समारोह में कहा-

बेगूसराय से स्थानांतरित जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा का सम्मान सह विदाई समारोह सोमवार की शाम लोहियानगर स्थित आर्यभट्ट कोचिंग इंस्टीट्यूट में आयोजित किया गया। विदाई समारोह का संयोजन आर्यभट्ट कॉलेज ट्यूटोरियल के निदेशक अशोक कुमार अमर के द्वारा किया गया।

विधायक अमिता भूषण ने विदाई समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि बेगूसराय सांस्कृतिक चेतना का केंद्र रहा है, जो भी पदाधिकारी यहां आए, वे इस जिले के होकर रह गए। जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा ने अल्प समय मे ही जिले में बेहतर कार्य किया है, जिस कारण आज जिले के शिक्षाविद आज इनके सम्मान में खड़े हैं।

इनका व्यवहार एवं कार्य सदा याद किया जाएगा। वहीं पूर्व मेयर संजय सिंह ने कहा कि देवेंद्र झा शिक्षकों के जिला शिक्षा पदाधिकारी रहे। अपने कार्यकाल में इन्होंने कार्यालय का द्वार आम शिक्षकों के लिए खोल दिया था, जिसके कारण जिले के आम शिक्षक इनसे व्यक्तिगत रूप से जुड़ गए हैं। सुधाकर राय ने कहा कि देवेंद्र झा ने जिले की शिक्षा व्यवस्था को पटरी पर लाने का कार्य किया है, इन्हें राज्यभर में एकेडमिक जिला शिक्षा पदाधिकारी के रूप में जाना जाता है, उन्नयन योजना हो या मध्याह्न योजना या कोरोना जागरूकता अभियान हर जगह इन्होंने अपने कार्यों से सभी का दिल जीता है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए एसएनएनआर कॉलेज चमथा के प्राचार्य सह आर्यभट्ट कोचिंग के निदेशक अशोक कुमार अमर ने कहा कि  जिले में समानता के आधार पर सभी शैक्षणिक कार्यों को बेहतर रूप से अंजाम देने का काम डीइओ साहब ने किया है। इनके प्रयासों से राज्यभर में बेगूसराय जिला शिक्षा विभाग में अव्वल रहा है। वहीं अपने सम्मान सह विदाई समारोह को संबोधित करते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेन्द्र झा ने कहा कि आज जिले के शिक्षाविदों के द्वारा इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने से मैं भाव विह्वल हो गया हूँ।

मैंने अपने स्तर से बेहतर कार्य करने का काम किया है लेकिन कोई भी पदाधिकारी हर किसी को खुश नही कर सकता है। मैंने सीधे शिक्षकों से जुड़ने का कार्य किया। नेतागिरी और मध्यस्थ की संस्कृति को समाप्त करने का कार्य किया। जिसके कारण कुछ लोगों को परेशानी भी महसूस हुई। उन्होंने कहा कि बेगूसराय चेतनशील एवं मुखर जिला है यहाँ से बहुत कुछ सीखने एवं समझने को मिला है।

नगर सचिव रणधीर कुमार ने कहा कि कोरोना के दौरान समय से मूल्यांकन करवाना, शिक्षक आंदोलन के दौरान शांति एवं सामंजस्य कायम रखना, कोरोना जागरूकता रथ निकलवा कर पूरे प्रदेश में एक मैसेज देना जिला शिक्षा पदाधिकारी देवेंद्र झा सर की खास उपलब्धि रही है। सर्वशिक्षा अभियान के रविभूषण सहनी ने कहा कि जिले में मात्र एक डीपीओ के सहारे देवेंद्र झा ने बेहतरीन कार्य किया है।

इस कार्यक्रम को प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ राहुल कुमार,भारद्वाज गुरुकुल के निदेशक शिवप्रकाश भारद्वाज,बी पी स्कूल के प्राचार्य डॉ प्रवीण चंद्र सिंह, शिक्षक नेता विक्रांत भास्कर, राघवेद्र कुमार, अरुण हरि, नंदन मिश्रा, भाजयूमो के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य शुभम कुमार, एबीवीपी के पूर्व राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य अजित चौधरी ने भी संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...