पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पहल:सरकारी स्कूलों में 21 जून से मिलेगा खाद्यान, आरटीजीएस से भेजी जाएगी खाना पकाने की लागत राशि

बेगूसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एमडीएम के बदले अप्रैल, मई व जून का मिलेगा खाद्यान्न

आगामी 21 जून से सरकारी स्कूलों में अप्रैल, मई और जून माह का खाद्यान्न के साथ-साथ खाना पकाने की राशि भी बच्चों के खाते में भेजी जाएगी। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने इस संबंध में पत्र जारी कर डीईओ को स्कूल में नामांकित बच्चों के अभिभावकों के बीच खाद्यन्न वितरण करवाने का आदेश दिया है। साथ ही राशि बच्चों या उनके अभिभावको के खाते में भेजने को कहा है।

मालूम हो कि कोरोना संक्रमण के कारण विद्यालय बंद रहने के कारण स्कूलों में खाद्यन्न की बीक्री नहीं हो सकी थी। अब राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत माह अप्रैल, मई और जून में कुल 49 दिनों के लिए सरकारी विद्यालयों में बच्चों को खाद्यान्न और खाना पकाने की लागत की राशि उनके बैंक खाता में हस्तांरित करने का निर्देश दिया है।

किसे कितना मिलेगा अनाज और राशि
प्रथम से पांचवी तक के बच्चों के लिए 100 ग्राम प्रति छात्र प्रति दिन के हिसाब से पांच किलो खाद्यान्न जबकि 4.97 रुपए परिवर्तन मूल्य प्रति छात्र प्रति दिन के हिसाब से 243 रुपए दिया जाएगा। इसी तरह कक्षा छठी से आठवीं तक के बच्चों के लिए 150 ग्राम खाद्यान्न प्रति दिन के हिसाब से सात किलो अनाज और 7.45 रुपए प्रति दिन के हिसाब से 365 रुपए बच्चों के खाते में भेजी जाएगी।

कोरोना के कारण शैक्षणिक संस्थान बंद हैं इसलिए भोजन भी बंद है
शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण शैक्षणिक संस्थान बंद है। जिसके कारण मध्याह्न भोजन योजना का संचालन भी बंद है। उन्होनें अपने पत्र के माध्यम से कहा है कि कई जिला में डीपीओ एमडीएम द्वारा बताया गया कि राज्य खाद्य निगम के गोदाम में अन्य कल्याणकारी योजनाओं के साथ मध्याह्न भोजन योजना का खाद्यान्न भी भंडारित है। जिसका उठान नहीं होने के कारण गोदाम में अन्य योजनाओं का खाद्यान्न भांडारित करने में समस्या हो रही है।

जिसके कारण राज्य खाद्य निगम ने अनाज उठाव के लिए अनुरोध किया है। जिसके कारण निर्णय लिया गया है कि 21 जून से सभी सरकारी स्कूलों में एचएम/प्रभारी एचएम विद्यालय में उपस्थित होकर वर्ग एक से आठ तक के सभी नामांकित छात्रों के अभिभावकों के बीच खाद्यान्न का वितरण करेगे।

इन नियमों का करना होगा पालन
खाद्यान्न वितरण के दौरान सबसे पहले कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावे खाद्यान्न केवल अभिभावकों को ही देने को कहा गया है। इसमें बच्चों को किसी कीमत पर शामिल नहीं करने की हिदायत दी गई है। इसके अलावे रोस्टर के अनुसार नामांकित बच्चों के अभिभावकों को विद्यालय बुलाकर खाद्यान्न का वितरण करने को कहा गया है।

खबरें और भी हैं...