शहर में शुरू हो रहा है खेलों का उत्सव:आज से कहीं कबड्डी के दाव तो कहीं स्मैश और हाथों की दिखेगी ताकत

बेगूसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दो वर्ष 126 दिन बाद आज से शहर में खेलों का उत्सव शुरू होगा। शहर के गांधी स्टेडियम में कहीं कबड्डी-कबड्डी की गूंज सुनाई देगी तो वॉलीबॉल मैदान पर स्कूली छात्र और छात्राएं स्मैश और अपने हाथ की ताकत दिखाएगी। मालूम हो कि कोरोना के कारण वर्ष 2019 के बाद से विद्यालयी खेल प्रतियोगिता का आयोजन नहीं हुआ था। इससे पहले 26 अगस्त 2019 से 28 अगस्त 2019 तक जिले के चार स्टेडियम में विद्यालयी खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था।

मालूम हो कि पिछले चार वर्षों से जिले में विद्यालयी खेल का प्रचलन काफी बढ़ा है। हर साल पिछले साल की तुलना में बच्चों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। मालूम हो कि पांच साल पहले तक कोई जानता भी नहीं था कि जिले में विद्यालय स्तर का कोई खेल भी होता था। लेकिन इसके बाद हर साल विद्यालयी खेल में प्रगति होती जा रही है।

चार साल पहले 700-800 बच्चे भाग लिए। इसके बाद बच्चों की संख्या 1500 हुई। पिछले साल जिले के स्कूलों के 2500 बच्चे इस विद्यालयी स्तर की प्रतियोगिता में शामिल हुए। इतना ही नहीं 70 से अधिक बच्चे नेशनल तक का सफर तय किया। लेकिन इस बार अबतक विद्यालयी प्रतियोगिता में विभिन्न आयु वर्ग में लगभग 4000 प्रतिभागी (बालक एवं बालिका) ने अपना रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। जिसमें एथलेटिक्स में सबसे अधिक 750, कबड्डी में 650, कराटे में 150, ताइक्वांडो में 250, बुशु में 125, भारत्तोलन में 150, फुटबॉल में 200, हैंडबॉल में 150, क्रिकेट में 500, बैडमिंटन में 200, कुश्ती में 50, वॉलीबॉल में 500, बास्केटबॉल में 100 एवं खो-खो में 250 बालक एवं बालिका भाग लेंगे।

ज्ञात हो कि आज प्रतियोगिता का शुभारंभ होगा। जिसमें प्रथम दिन गांधी स्टेडियम में बालक कबड्डी,खो-खो (बालक - बालिका), बालिका वॉलीबॉल प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। मालूम हो कि अबतक संपन्न हुए विद्यालय प्रतियोगिता में कम दिन रहने के कारण एक ही दिन कई तरह की प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा था। इससे काफी अफरा-तफरी का माहौल रहता था। इसी को देखते हुए इस वर्ष अगल-अलग खेलों के लिए अलग-अलग खेल मैदान और स्टेडियम में व्यवस्था की गई है।

खबरें और भी हैं...