पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैठक:सीएसआर फंड से हरिद्वार की हर की पौड़ी की तर्ज पर सिमरिया में बनेगा जानकी पौड़ी

बेगूसराय16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीएम ने अधिकारी, जनप्रतिनिधि और धर्मगुरुओं से मांगा सुझाव, पर्यटकीय सुविधाओं पर काम शुरू
  • धर्मशाला, शौचालय, एन एच-31 से घाट तक पी.सी.सी. सड़क का होगा निर्माण

हरिद्वार के हर की पौड़ी की तर्ज पर सिमरिया में जानकी पौड़ी बनेगी। बिहार सरकार के निर्देश के बाद जिला प्रशासन ने जानकी पौड़ी के लिए डीपीआर तथा वहां पर्यटकीय सुविधाओं को बढाने के लिए काम शुरु कर दिया है। गंगा तट पर सीढी निर्माण से लेकर घाट परिसर में सीएसआर फंड से धर्मशाला, शौचालय, एन एच-31 से घाट तक पी.सी.सी.सड़क के निर्माण, भव्य प्रवेश द्वार तथा हाईमास्ट लाईट लगाने का निर्णय लिया गया है।

बुधवार को डीएम की अध्यक्षता में कारगिल भवन में बैठक में सिमरिया गंगा तट पर सुविधा बढाने तथा पर्यटक स्थल के रुप में विकसित करने के लिए आवश्यक सुझावों के लिए साधु-संत व स्थानीय जनप्रतिनिधि के साथ बैठक की। बैठक में डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने कहा कि सिमरिया घाट का व्यापक सांस्कृतिक महत्व है। घाट की इसी महत्ता के मद्देनजर जिला प्रशासन इसे पर्यटकीय दृष्टिकोण से भी विकसित करने की कार्ययोजना पर पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है।

बैठक में सिमरिया घाट के विकास हेतु गठित जिलास्तरीय सिमरिया धाम विकास समिति द्वारा वहां निर्माण किए जा सकने वाले स्थायी/अस्थायी संरचनाओं के संबंध में चर्चा की गई। डीएम ने कहा कि सभी संबंधित व्यक्तियों से फीडबैक प्राप्त कर कार्ययोजना तैयार कर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

निर्माण के लिए जमीन के चयन का दिया निर्देश

इसी क्रम में डीएम ने एसडीओ सदर और सीओ बरौनी घाट परिसर में निर्माण के लिए उपलब्ध जमीन एवं स्थल चयन के लिए आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि बैठक के दौरान सदस्य विधान परिषद सर्वेश कुमार के द्वारा दिए गए सुझाव के आधार पर परिसर में 5-7 चापाकल के लगाए जाने और दो अस्थायी शवदाह शेड के निर्माण के संबंध में कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद्, बीहट को निर्देश दिया गया है।

सिमरिया में बढेग़ी पुलिस की पेट्रोलिंग
बैठक में शामिल संत-महात्माओं द्वारा सिमरिया घाट में जानकी पौड़ी के निर्माण के संबंध में भी महत्वपूर्ण सुझाव दिए गए। जिसपर सीढ़ी सहित अन्य स्थायी निर्माण सहित जानकी पौड़ी संरचना निर्माण के लिए डीपीआर तैयार करने को लेकर एजेंसी के चयन के संबंध में विचार-विमर्श किया गया। सिमरिया घाट परिसर की सुरक्षा व्यवस्था को को लेकर संतों द्वारा दिए गए सुझाव पर क्षेत्र में पेट्रोलिंग बढ़ाने का आश्वासन दिया। साथ ही विधान परिषद द्वारा सिमरिया घाट के लिए स्थायी थाना की स्थापना के आग्रह पर डीएम ने उन्हें इस संबंध में अनुशंसा पत्र भेजने का सुझाव दिया। इससे पहले डीडीसी सुशांत कुमार ने सिमरिया धाम में श्रद्धालुओं की सुविधा हेतु धर्मशाला, परिसर में पीसीसी सड़क, शौचालयों का निर्माण, सीढ़ी घाट का निर्माण के संबंध में तैयार प्राक्कलन पर विस्तार से जानकारी दी।

धर्मशाला, रोड तथा प्रकाश की व्यवस्था की जाएगी सुदृढ

प्रमुख रूप से एनएच से सिमरिया घाट तक सड़क का निर्माण, एक भव्य गेट का निर्माण, धर्मशाला का निर्माण, 5 हाई मास्ट लाइट का निर्माण, शौचालय का निर्माण इन 5 योजनाओं की स्वीकृति दी गई। इन सारी योजनाओं की स्वीकृति के अनुरूप शीघ्र निर्माण कार्य प्रारंभ की जाएगी। सिमरिया घाट में घाट और सीढी के निर्माण कार्य हेतु एक विस्तृत डीपीआर तैयार करने हेतु बिहार सरकार के राजस्व विभाग को लिखने का निर्णय हुआ। साथ ही कहा कि हरिद्वार के हर की पौड़ी के तर्ज पर जानकी पौड़ी का निर्माण कार्य एक सुंदर और स्थाई संरचना के निर्माण हेतु एक विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट की आवश्यकता है। जिसको विशेषज्ञ द्वारा बनाया जाना है, जिसके चयन का कार्य बिहार सरकार के राजस्व विभाग या नगर विकास विभाग के द्वारा किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...