पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निर्देश:घाटाें में सभी सुविधा बहाल करने का सांसद ने अधिकारियों को दिया निर्देश

बेगूसराय6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • साेशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने की अपील आम लाेगाें से की गई

लोक आस्था के महापर्व छठ के मौके पर स्थानीय सांसद सह केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने गुरुवार को नगर निगम क्षेत्र के विभिन्न छठ घाटों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान केंद्रीय मंत्री ने बड़ी पोखर, तेलिया पोखर, रतनपुर बिशनपुर चतुर्भुज पोखर में अर्घ्य के दौरान छठ व्रतियों को परेशानी नहीं हो, इसके लिए नगर निगम द्वारा की गई व्यवस्था को देखा। साथ ही उनके साथ चल रहे मेयर उपेंद्र प्रसाद सिंह, उपमेयर राजीव रंजन, नगर आयुक्त अब्दुल हमीद से खामी में सुधार करने को कहा। वैश्विक महामारी कोरोना के इस कालखंड में जब संपूर्ण विश्व त्रासदी की चपेट में है तो, लोक आस्था के इस महापर्व को सतर्कता के साथ मनाना निश्चित तौर पर चुनौती का काम है। जिला प्रशासन की मुस्तैदी लोगों को इस महापर्व के मौके पर लोगों को सुकून देगी। केंद्रीय मंत्री ने आमजनमानस से अपील करते हुए कहा कि जिला प्रशासन द्वारा तय मानकों के अनुरूप लोग इस महापर्व को विभिन्न पोखर एवं घाटों पर संयम से मनाएं। कोविड महामारी का ध्यान रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क का प्रयोग अवश्य करें। इससे आपके त्योहार सुरक्षित तरीके से सम्पन्न हों। मौके पर मौजूद बेगूसराय विधानसभा के नवनिर्वाचित विधायक कुंदन कुमार ने कहा कि लोक आस्था का महापर्व शांतिपूर्ण एवं सुरक्षित रूप से संपन्न हो इसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन के साथ-साथ हम सबों की भी है। छठ घाटों पर उचित दूरी का पालन करें। ये भी थे उपस्थित मौके पर सदर एसडीओ संजीव चौधरी, पूर्व मेयर संजय कुमार, भाजपा जिला उपाध्यक्ष कुंदन भारती, मृत्युंजय कुमार वीरेश, अमरेंद्र अमर, जिला मीडिया प्रभारी सुमित सन्नी, श्याम कुमार, सुनील कुमार मुन्ना, लालन सिंह, देवानंद कुशवाहा, राजीव कुमार प्रदीप, अक्षय आर्या सहित अन्य कार्यकर्ता साथ-साथ चल रहे थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें