कोरोना / अब रेड जोन से आने वाले ही किए जाएंगे क्वारेंटाइन, यलो जोन से आने वालों को भेजा जाएगा घर

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

बेगूसराय. डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि जिले में अबतक कुल 21 हजार 875 लोग आ चुके हैं। आगे और भी लोगों के आने की संभावना है। जिले में इतने संख्या में फोर्स भी नहीं है। इसलिए अब शत प्रतिशत लोगों को स्कूल में रखना संभव नहीं है। इस लिए अब मजदूरों को दो श्रेणी में बांटकर क्वारेंटाइन किया जाएगा। विभाग से प्राप्त आदेश के बाद रेड जोन से आने वाले लोगों को श्रेणी क और अन्य जगहों से आने वाले को श्रेणी ख में रखा गया है। अब श्रेणी क वाले को प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा जबकि श्रेणी ख वाले मजदूरों को जांच के बाद कोरोना के लक्षण नहीं मिलने पर उन्हें होम क्वारेंटाइन में भेज दिया जाएगा।
कम किए जाएंगे  क्वारेंटाइन सेंटर
मजदूरों को दो श्रेणी में बांटने के बाद अब श्रेणी ख से संबंधित वैसे मजदूर जो पहले से आएं हुए हैं और विभिन्न क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे हैं अब उन्हें भी आवश्यक प्रक्रिया पूरी करने के बाद घर भेजा जा रहा है। डीएम ने कहा कि ऐसी कई जगहों से सूचना प्राप्त हो रही है कि 14 दिनों से पहले ही मजदूरों को घर भेजा जा रहा है। लेकिन ऐसा नहीं है विभाग के प्राप्त निर्देशों के बाद अब पहले से आए मजदूरों को 14 से पहले भी क्वारेंटाइन सेंटर से छोड़ा जा रहा है। हालांकि उनसे एक बांड भी भरवाया जा रहा है जिसमें उन्हें कुल 21 दिनों तक होम क्वारिन्टाइन में ही रहना होगा।
मालूम हो कि देश के ग्यारह विभिन्न रेड जोन वाले शहरों जैसे सूरत, अहमदाबाद, मुम्बई, पुणे, दिल्ली, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुरूग्राम, नोएडा, कोलकाता और बंगलौर को श्रेणी क रखा गया है। यहां से आने वाले मजदूरों को प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। जबकि इन ग्यारह शहरों के अलावे दूसरे शहरो/राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को अब होम क्वारेंटाइन में भेजा जाएगा।  डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने कहा है कि श्रेणी क के शहरों से आए प्रवासी मजदूरों को प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा।

अगर प्रखंड स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में जगह का आभाव होता है तो उसे प्रखंड मुख्यालय से सटे पंचायतों में रखा जाएगा। प्रवासी मजदूरों को 14 दिनों के प्रखंड क्वारेंटाइन पूरा करने के बाद उन्हें सात दिनों के होम क्वारेंटाइन में रहने भेज दिया जाएगा। वहीं श्रेणी ख के प्रवासी मजदूरों को अब सीधे होम क्वारेंटाइन में रहने भेज दिया जाएगा। बशर्ते उनमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले, लेकिन यदि किसी क्वारेंटाइन कैंप में ख के प्रवासी मजदूरों के साथ श्रेणी क के शहरों का कोई प्रवासी मजदूर रह रहें हो तो श्रेणी ख के प्रवासी मजदूरों को भी 14 दिनों तक क्वारेंटाइन में रखा जाएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना