पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गंदगी:5वें दिन भी सफाईकर्मी रहे हड़ताल पर सड़कों पर पसरा 400 टन से अधिक कचरा

बेगूसराय10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कचरा उठाव नहीं कर रहे हैं सफाईकर्मी, अब सड़ांध और दुर्गंध से जीना हुआ दुश्वार

नगर निगम क्षेत्र में लगातार पांचवे दिन भी सफाई नहीं होने से शहर के हर चौक-चौराहों व मोहल्लों में कचरे का अंबार लगा हुआ है। सड़कों पर यत्र-तत्र फैला कचरा से शहर की सूरत बिगड़ गई है। सफाई व कचरा का उठाव नहीं होने से शहर के सड़कों पर 400 टन से अधिक कचरा फैला हुआ है।

डंपिंग प्वांइट पर जमा कचरा अब दुर्गंध देने लगा है, जिससे आस-पास के लोग और राहगीर काफी परेशान है। कई मोहल्लों और सड़कों पर सूअर और कुत्ता व गाय द्वारा डंपिंग प्वॉइंट और सड़क पर जमा कचरे को सड़क पर बिखरे देने और नाला का पानी ओवरफ्लो होकर सड़क पर बहने के कारण लोगों का आना जाना भी मुश्किल हो गया है।

सफाई नहीं होने से पूरे शहर की स्थिति नारकीय हो गई है। वहीं नगर निगम के सफाई कर्मचारी राज्य व्यापी आह्वान पर अपनी मांगों के समर्थन में पांच दिनों से आंदोलन पर डटा हुआ है। 12 सूत्री मांगों को लागू करने की मांग को लेकर सफाई कर्मचारियों ने निगम कार्यालय परिसर में धरना-प्रर्दशन किया और अधिकारी व सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

सरकार और प्रशासन को सफाईकर्मियों की परेशानियों से कोई वास्ता नहीं है, इसलिए इसबार हमलोग भी नहीं मानेंगे : अध्यक्ष
इस मौके पर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष गिरीश कुमार ने कहा कि सरकार को कर्मचारियों की परेशानी से कोई मतलब नहीं है। सरकार कर्मचारियों से सिर्फ बंधुआ मजदूरों की तरह काम लेना जानती है। उनके अधिकार देना नहीं। उन्होंने कहा कि नगर निगम कर्मचारी अपनी जायज मांगों को लेकर लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं।

लेकिन उसे आज तक हमारी जायज मांग को लागू नहीं किया है। उन्होंने कहा कि सरकार सिर्फ अपनी कुर्सी बचाने के लिए काम कर रही है। न तो इस सरकार को कर्मचारियों के दुख-दर्द की चिंता है न मंहगाई की चिंता है। वहीं जिला मंत्री दिलीप मलिक ने कहा कि सभी रिक्त पदों पर 10 वर्षों से कार्यरत कर्मियों का समायोजन किया जाए।

बढ़ती महंगाई को देखते हुए केंद्र सरकार के निर्णय अनुसार दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को 18 हजार से 21 हजार वेतन दिया जाए और कर संग्राहक कर्मियों को बकाया भत्ता का भुगतान कर दैनिक वेतन भोगी का दर्जा दिया जाए। साथ ही पीएफ के नाम पर कर्मियों के वेतन से काटी गई राशि कर्मियों के खाते में जमा कराएं। सभी कर्मियों के इंश्योरेंस कराएं और सुरक्षा किट सफाई कर्मियों को मुहैया कराएं। मौके पर गणेश राम, बिरजू मलिक, समतोला देवी, माला देवी, हरिचरण मलिक, ब्रम्हानंद दास आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...