बंद कमरे से पुलिस ने शव किया बरामद:रामदीरी के 40 साल के युवक की पीट-पीटकर हत्या,2006 में भी हत्या करने का हुआ था प्रयास, इलाज के दौरान बच गया था युवक

बेगूसराय13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बदमाशों ने गुरूवार की रात शीलभद्र प्रियदर्शी (40 साल) की पीट-पीट कर हत्या कर दी और कमरे को अंदर से बंद कर खिड़की के रास्ते फरार हो गए। यह नृशंस हत्या नगर थाना क्षेत्र के श्रीकृष्ण मोहल्ले के वार्ड 20 में हुई। मृतक अविवाहित था और वह मटिहानी थाना क्षेत्र के रामदीरी महाजी टोला का मूल निवासी था। मृतक के पेट, सीना, पीठ और चेहरे पर चोट के दर्जनों निशान है, साथ ही नाक से खून निकल रहा था। उसका शव उसके कमरे में चौकी के नीचे गिरा मिला। उसकी हत्या, किसने और क्यों की, यह रहस्य बनी हुई है। मृतक अपने पुराने खपरैल मकान में अकेले रहता था। मकान में ही 3 दुकानें थी। जिसके किराया से उसका गुजर-बसर होता था। मृतक के भाई अमित आनंद ने बताया कि शुक्रवार की सुबह पड़ोसियों से उसे फोन करके जानकारी दिया कि आपका भाई चौकी के नीचे गिरा हुआ है।

इस सूचना पर मैं अपने अन्य परिजनों के साथ पहुंचा तो देखा कि बाहर से गेट मे ताला लगा हुआ है और मेरे भाई का कमरा अंदर से बंद है। हमलोग कमरे के किवाड़ को तोड़ कर शीलभद्र प्रियदर्शी को निजी डॉक्टर के यहां ले गए। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि रात को मेरे भाई की अपने मामू से बातचीत हुई थी। मृतक शीलभद्र की मां प्रभावती देवी ने बताया कि उनके बेटे की साजिशन हत्या हुई है। इस हत्या को आस-पास के लोगों ने ही अंजाम दिया है। उन्होंने बताया कि सालों पहले पड़ोस की एक महिला के अवैध संबंध की जानकारी उन्हें लग गई।

जिसका उन्होंने विरोध किया। इस वजह से उक्त महिला से उनके परिवार की दुश्मनी हो गई। साल 2006 में बदमाशों ने शीलभद्र प्रियदर्शी को मारपीट कर अधमरा कर दिया था। इसके बाद बदमाशों ने मेरा गर्दन काट कर जान मारने का प्रयास किया। अब बदमाशों ने मेरे पुत्र की हत्या कर दी है। इधर, मृतक के भाई अमित आनंद ने बताया कि उनलोगों की किसी से ऐसी दुश्मनी नहीं है कि कोई उनके भाई को मार दे।

  • एसपी योगेंद्र कुमार ने बताया कि नगर थाना पुलिस को मामले की जांच तुरंत शुरू करने का आदेश दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद मौत के कारणों का खुलासा होगा।
खबरें और भी हैं...