रवींद्र नाथ ठाकुर की पुण्यतिथि:रवींद्र की विद्वता पूरे विश्व में विख्यात है, 80वें स्मृति दिवस पर उन्हें किया गया याद

बेगूसराय2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रद्धांजलि अर्पित करते शहर के बुद्धिजीवी। - Dainik Bhaskar
श्रद्धांजलि अर्पित करते शहर के बुद्धिजीवी।

विश्वकवि रवींद्रनाथ ठाकुर के 80वें स्मृति दिवस शनिवार को शहीद सुखदेव सिंह समन्वय समिति कार्यालय सर्वोदय नगर में मनाई गई, जिसकी अध्यक्षता कुमार सिंह ने किया। मौके पर अनंत कुमार सिंह ने कहा कि उनका जन्म 1861 को बंगाल प्रांत में हुआ था। उनका परिवार अपनी विद्वता के लिए चिरकाल से प्रसिद्ध है।

आज सारा विश्व उनका ऋणी हैl इस अवसर पर डा चंद्रशेखर चौरसिया ने कहा कि रवि बाबू असाधारण प्रतिभा के धनी और कुशाग्र बुद्धि के अद्वितीय साहित्यकार थे। उनकी साहित्यिक और सांसारिक प्रतिमा 16 वर्ष की अवस्था में ही प्रकट होने लगी थीl इस अवसर पर कवि प्रफुल्ल चंद्र मिश्र ने कहा कि रविंद्र नाथ ठाकुर समग्र मानव जाति के मसीहा थे।

वे सच्चे देशभक्त थे। वे गांधीजी के साथ मिलकर देश भक्ति पर ढेर सारी कविताएं लिखीl इस अवसर पर महिला सेल सचिव सुनीता देवी ने कहा कि रवि बाबू बांग्ला भाषा के साहित्यकार में सर्वाधिक चमकने वाले नक्षत्र थे। उन्होंने साहित्य के अनेक विधाओं में रचना की है।

जिनमें काव्य, निबंध, कहानी, नाटक, उपन्यास प्रमुख हैंl इस अवसर पर भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष व गीतकार बबलू आनंद ने कहा कि विश्वकवि रविंद्र नाथ ठाकुर की रचना युग युग तक देश- दुनिया को प्रेरित करता रहेगा। इस अवसर पर राजेंद्र महतो, विकास कुमार, छात्रा अनाया कुमारी, पूर्व जिला अध्यक्ष माध्यमिक शिक्षक संघ के अरुण कुमार, भूषण प्रसाद सिंह, राजेंद्र यादव आदि ने अपना विचार व्यक्त किया।

खबरें और भी हैं...