पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परीक्षा की तैयारी:सिमरिया और बीहट की दाे बेटियां और दाे बेटे बने दाराेगा, बधाई देने के लिए घर पर लगा लोगों का तांता

बीहटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिमरिया की अभिलाषा ट्यूशन पढ़ाकर ताे रवीश सीआईएसफ में कांस्टेबल रहकर बना दाराेगा

नगर परिषद बीहट व सिमरिया से दाे लड़का व लड़कियाें ने दाराेगा की परीक्षा में सफलता हासिल की। नगर परिषद बीहट के वार्ड संख्या 17 के स्व बिपिन सिंह की पुत्रवधू और बेगूसराय कोर्ट में कार्यरत पति अमन कुमार सिंह की पत्नी काजल कुमारी ने दारोगा की परीक्षा पास कर सम्पूर्ण नगर का नाम रौशन किया है। वहीं नगर परिषद बीहट के वार्ड 23 निवासी सहदेव दास के पुत्र सीआईएसएफ के जवान रवि कुमार ने भी दरोगा बनकर

अपने परिवार सहित नगर का मान बढ़ाया है। वहीं अभिलाषा ने ट्यूशन पढ़ाकर की परीक्षा की तैयारी की। अभिलाषा के पिता प्रदीप कुमार राय बताते हैं कि अभिलाषा बचपन से ही मेधावी थी। गांव के ही दिनकर हाईस्कूल सिमरिया से वर्ष 2010 में मैट्रिक की परीक्षा पास की। वर्ष 2012 में आरसीएस काॅलेज बीहट से इंटरमीडिएट करने के बाद वह बीटेक की डिग्री उड़ीसा के भुवनेश्वर से हासिल की।

अभिलाषा बताती है कि परिवार कर आर्थिक स्थिति सुदृढ़ नहीं हाेने से घर पर रहकर ही बच्चाें काे ट्यूशन पढ़ाकर प्रतियाेगिता परीक्षा की तैयारी पिछले दाे तीन वर्षाें से कर रही थी। इस परीक्षा से पहले भी कई परीक्षाओं में उत्तीर्ण हुआ लेकिन मेधा सूची में नहीं आ सकी। परीक्षा की तैयारी के संबंध में बताया कि आनलाइन सामग्री से तैयारी कर रही थी। आगे मेरा लक्ष्य यूपीएससी की परीक्षा पास करना है।

अभिलाषा ने बताया किइस सफलता का पूरे परिवार काे जाता है। मेरे पिता के अलावे मां किरण देवी, चाचा दिलीप भारद्वाज, जगदीप राय व परिवार के सभी सदस्याें ने हमारा हमेशा मनाेबल बढ़ाने का काम िकया। िवदित हाे कि मां गृहिणी हैं वहीं पिता मजदूरी करते हैं।

खबरें और भी हैं...