पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रदर्शन:बढ़ती महंगाई से आमलोगों की जिंदगी त्रस्त है, भूखमरी के शिकार लोग कर रहे हैं आत्महत्या

बेगूसराय20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महंगाई और मनमाना बस भाड़ा वसूली के खिलाफ खेग्रामस व एक्टू कार्यकर्ता ने किया प्रदर्शन

महंगाई और बस भाड़ा मनमानी वसूली के खिलाफ खेग्रामस व एक्टू के संयुक्त आह्वान पर कार्यकर्ताओं ने गैस सिलेडंर के साथ रोषपूर्ण प्रदर्शन किया। इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने माले जिला कार्यालय कमलेश्वरी भवन से जुलूस निकाला जो शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए समाहरणालय के समीप पहुंच प्रदर्शन उपरांत सभा में तब्दील हो गया।

इस मौके पर माले जिला सचिव दिवाकर कुमार ने कहा कि केन्द्र की एनडीए सरकार महंगाई बढ़ाने वाली नीतियों को लागू कर पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही और देश के किसानों, मजदूरों को कंगाल कर बदहाली की जिंदगी जीने को मजबूर किया जा रहा है। खेग्रामस और एक्टू नेता चन्द्रदेव वर्मा ने कहा कि जहां महंगाई से आम लोगों की जिंदगी त्रस्त है, वहीं पटना दिल्ली की सरकार मस्त नजर आती है। महंगाई और लॉकडाउन से स्कीम वर्कर्स ग्रामीण मजदूरों के बीच भुखमरी का संकट गहराने लगा है।

लोग आत्महत्या कर रहे हैं और मोदी जी निजीकरण और धार्मिक उन्माद के सहारे सरकार चला रहे है। उन्होंने कहा कि जिले में बस मालिकों द्वारा यात्रियों से मनमाना भाड़ा की वसूली की जा रही है। इस पर जिला प्रशासन अविलंब संज्ञान लेकर कार्रवाई करे। माले राज्य कमेटी सदस्य नवल किशोर ने कहा कि मानवाधिकार कार्यकर्ता और आदिवासी गरीबों के हित में काम करने वाले फादर स्टेन स्वामी को जेल मे बंद कर क्रूर यातना से हुई हत्या लोकतंत्र और संविधान की हत्या है।

इन मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

बढ़ती महंगाई पेट्रोल-डीजल-रसोईगैस और सरसों तेल सहित दवाओं के दाम में मूल्यवृद्धि वापस लेने। आयुध कारखाना के निगमीकरण और मजदूर विरोधी नीति वापस लेने। कोरोना से हुई मौत के मामले में आश्रितों को 10 लाख रुपए मुआवजा देने और स्वास्थ्य व्यवस्था को पंचायत तक सुदृढ़ करने। बढ़ते अपराध पर रोक लगाने। मनमाना बस भाड़ा वसूली पर रोक लगाने। हर व्यक्ति को 10 किलो मुफ्त अनाज सहित दाल, तेल, चीनी अन्य खाद्य सामग्री प्रति माह देने। रसोईया, आशा, आंगनबाड़ी, सेविका, सहायिका सहित स्कीम वर्कर्स को बकाया मानदेय राशि का भुगतान करने व प्रतिमाह 21 हजार मानदेय तय करने। मनरेगा मजदूरों को साल में 200 दिन काम एवं 5 सौ रुपए दैनिक मजदूरी देने एवं फर्जीवाड़े की जांच करने। हर-घर नल का जल योजना में अधूरे कार्य को पूरा करने। नए कार्ड धारक को राशन मुहैया कराने। सभी गरीब भूमिहीनों को 10-10 डिसमल वासभूमि और प्रधानमंत्री आवास मुहैया कराने की मांग को लेकर आंदोलन किया गया। अंत में 11 सूत्री मांग पत्र डीएम को सौपा। इस मौके पर बैजू सिंह, मो. इसराफिल, राजेश श्रीवास्तव, नूरूल इस्लाम जिम्मी, किरण देवी, रामबिलास रजक, सुरेश पासवान, कुवंर कन्हैया, लड्डुलाल दास, मा.े कमाल, अजय कुमार, रतनमाला देवी, रेखा देवी मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...