वारदात / दस दिन में दो मर्डर: दोनों मामलों में हाथ खाली, बस अंधेरे में तीर चला रही पुलिस

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

बेगूसराय. पिछले 10 दिनों के अंदर बेखौफ बदमाशों ने दो युवकों को मौत के घाट उतार दिया है। दोनों ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस अंधेरे में तीर चला रही है। पहला मामला तेघड़ा थाना क्षेत्र के गौड़ा गांव की है। 2 दिन से लापता लापता संजीत कुमार मिश्रा उर्फ पुट्टी का शव पुलिस ने निपनिया मधुरापुर पंचायत के गंगा किनारे स्थित एक मकई के खेत से बरामद किया। हत्यारों ने संजीत कुमार मिश्रा को धारदार हथियार से वार कर निर्दयतापूर्वक हत्या कर दी और हत्या के साक्ष्य को छुपाने के लिए शव के चेहरे पर तेजाब डाल दिया था।

शव मिलने के स्थान से 100 मीटर दूर मृतक की बाइक मिली थी। मृतक संजीत कुमार मिश्रा मधुरापुर के रजिस्ट्रार विनीत कुमार का निजी चालक था। उसके पिता ने 2 दिन पहले तेघड़ा थाना में संजीत कुमार मिश्रा के अपहरण के जाने में एफआईआर दर्ज कराई थी।10 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस इस हत्याकांड को नहीं सुलझा सकी है। हालांकि इस मामले  में पुलिस ने शनिवार को कुछ लोगों को हिरासत में लिया है लेकिन पीड़ित के परिजनों का कहना है कि दबाब में पुलिस काम कर रही है।

मृतक के पिता ने इस मामले में डीजीपी से भी न्याय की गुहार लगाई है। मामला प्रेम प्रसंग का है। वहीं  एसडीपीओ ओमप्रकाश ने बताया कि मामले की जांच पुलिस कर रही है।  वही दूसरा मामला रिफाइनरी सहायक थाना क्षेत्र के नेशनल हाईवे 31 पर हरपुर ढाला के पास का है,  जहां 21 मई की शाम बदमाशों ने 17 वर्षीय सोनू कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी।
भाजयुमो नेता धीरज हत्याकांड में अंशु राम ने कोर्ट में किया सरेंडर
भाजयुमो नेता धीरज हत्याकांड के अप्राथमिकी अभियुक्त अंशु राम ने शनिवार को कोर्ट में सरेंडर कर दिया। कोर्ट ने आरोपी को जेल भेज दिया है। मुफ्फसिल थानाध्यक्ष राजबिंदु प्रसाद ने बताया कि आरोपी अंशु राम पुलिस के ताबड़तोड़ छापेमारी की डर से कोर्ट में सरेंडर किया है। वह कैथमा गांव का रहने वाला है, धीरज की हत्या में मंशु राम भी शामिल था। पुलिस अनुसंधान में यह सामने आया है कि धीरज पर गोली चलाने के दौरान मंसू राम भी बदमाशों की टोली में शामिल था। उन्होंने बताया कि अब तक धीरज हत्याकांड में पांच आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं।

अब एकमात्र नामजद आरोपी रामनाथ सिंह और प्राथमिकी अभियुक्त पप्पू यादव ही इस मामले में फरार चल रहा है। पुलिस दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश डाल रही है, जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आरोपी रामनाथ सिंह कैथमा के पूर्व कुख्यात बदमाश सुनील कुमार सिंह उर्फ बुच्चन सरदार सह पूर्व नगर पार्षद का पुत्र है। साल 2017 में बूचन सरदार की गांव में ही हत्या कर दी गई थी। उल्लेखनीय है कि 17 मई की सुबह कैथमा गांव में घर के पास ही बदमाशों ने भाजयुमो नेता धीरज भारद्वाज को गोलियों से छलनी कर दिया था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना