पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रफ्तार धीमी:बोरा के अभाव में गेहूं अधिप्राप्ति की गति धीमी, विक्रेता किसान हो रहे हैं परेशान

नावकोठी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार ने 15 जून तक लक्ष्य के अनुरूप गेहूं अधिप्राप्ति करने का निर्देश जारी किया है

सहकारिता विभाग के असहयोगात्मक रवैया के फलस्वरूप पैक्स के माध्यम से गेहूं अधिप्राप्ति की प्रक्रिया मंथर है। इससे गेहूं विक्रेता किसानों में नाराजगी है। सरकार ने 15 जून तक लक्ष्य के अनुरूप गेहूं अधिप्राप्ति करने का निर्देश जारी किया है।गेहूं अधिप्राप्ति की प्रक्रिया मंथर होने के कारण प्रखंड के पांच पैक्स को 13 हजार 320 क्विंटल गेहूं अधिप्राप्ति करने के लक्ष्य के विरुद्ध में मात्र 3 हजार 393 क्विंटल ही गेहूं अधिप्राप्ति हो पाई है।

पहसारा पश्चिम पैक्स अध्यक्ष रणवीर कुमार ने बताया कि पैक्स को गेहूं अधिप्राप्ति करने का आदेश विलंब से मिला पर जब पैक्स द्वारा गेहूं क्रय करना प्रारंभ हुआ तो विभाग द्वारा ससमय पैक्स को जूट का बोरा उपलब्ध नहीं कराया गया। विभाग द्वारा भारतीय खाद्य निगम अंकित जूट के बोरा में ही किसानों से गेहूं क्रय करने का निर्देश निर्गत है। क्रय किए गए गेहूं को एस एफ सी गोदाम में अनलोड कराने में भी कई दिनों का समय लग जाता है।

गेहूं के बाेरा सिलाई में हाे रही परेशानी
वहीं रजाकपुर पैक्स अध्यक्ष शंकर महतो ने बताया कि पैक्स भवन में बिजली कनेक्शन के लिए बिजली विभाग द्वारा शिथिलता बरती जा रही है। बिजली कनेक्शन के लिए अक्टूबर 2020 में विभागीय प्रक्रिया पूर्ण कर ली गई है, पर आज तक इसे संपादित नहीं किया गया है। बिजली कनेक्शन नहीं होने से गेहूं के बोरा सिलाई में काफी कठिनाई हो रही है।

जूट बोरा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी एसएफसी की
बीसीओ ओंकार कुमार ने बताया कि प्रखंड के पांच पैक्स को गेहूं अधिप्राप्ति करने का विभागीय निर्देश प्राप्त हुआ है। इसमें पहसारा पश्चिम पैक्स ने 3500 क्विंटल गेहूं अधिप्राप्ति के लक्ष्य के विरुद्ध 1620 क्विंटल, पहसारा पूर्वी पैक्स 3400 क्विंटल लक्ष्य के विरुद्ध 540 क्विंटल , रजाकपुर पैक्स ने 2100 क्विंटल लक्ष्य के विरुद्ध 463 क्विंटल, डफरपुर पैक्स ने 2700 क्विंटल लक्ष्य के विरुद्ध 500 क्विंटल और हसनपुर बागर पैक्स ने 1620 क्विंटल

लक्ष्य के विरुद्ध मात्र 270 क्विंटल गेहूं अधिप्राप्ति किया है। पैक्स में गेहूं अधिप्राप्ति करने के लिए जूट बोरा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी भारतीय खाद्य निगम को है। एसएफसी ने जनवितरण प्रणाली के विक्रेता को जूट का बोरा पैक्स को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया, पर जनवितरण प्रणाली विक्रेताओं ने पैक्स के मांग के अनुरूप बोरा उपलब्ध कराने में असमर्थता जाहिर की।

खबरें और भी हैं...