पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नप चुनाव:2 साल 7 दिन बाद खोया विश्वास जैनेन्द्र ने फिर से पाया, चार मतों से जीतकर बने नप सभापति

भभुआ19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जीत का प्रमाण पत्र लेते जैनेन्द्र व समर्थकों के साथ सभा कक्ष से बाहर निकलते - Dainik Bhaskar
जीत का प्रमाण पत्र लेते जैनेन्द्र व समर्थकों के साथ सभा कक्ष से बाहर निकलते
  • निर्वाचन कक्ष में समय से पहले पहुंचे सभी पार्षद, कड़ी सुरक्षा के बीच भयमुक्त वातावरण में हुआ चुनाव

2 साल 7 दिनों बाद जैनेंद्र ने फिर से पार्षदों का विश्वास हासिल कर लिया। चुनाव में 14-10 पार्षदों के समर्थन से दुबारा नगर परिषद के मुख्य सभापति बने। समाहरणालय सभाकक्ष को बनाए गए निर्वाचन कक्ष में कड़ी सुरक्षा के बीच मुख्य पार्षद का चुनाव हुआ। निर्वाची पदाधिकारी जन्मेजय शुक्ला ने बहुमत प्राप्ति के बाद जैनेंद्र आर्य उर्फ जॉनी को मुख्य पार्षद का शपथ ग्रहण कराया। अब जैनेंद्र अगले 8 माह के लिए फिर से मुख्य पार्षद बने हैं।उल्लेखनीय है कि इन्हीं जैनेंद्र आर्य को 29 जून 2019 को 21 पार्षदों के समर्थन से निवर्तमान मुख्य पार्षद उर्मिला देवी ने कड़ी शिकस्त दी थी। अब उनके निधन से यह पद रिक्त हो गया था। निर्वाचन कक्ष में समय से पहले ही पहुंच गए थे सभी पार्षद निर्वाची पदाधिकारी सह सदर अनुमंडल अधिकारी जन्मेजय शुक्ल के द्वारा निर्वाचन के लिए पार्षदों की उपस्थिति का समय 11:00 से 12:00 के बीच निर्धारित किया गया था। शुरुआती समय में ही 10 पार्षद पहुंच गए थे। इसके बाद करीब 11:40 बजे 13 पार्षदों के साथ जैनेन्द्र आर्य पहुंचे। इसके बाद निर्वाचन की कार्रवाई शुरू हुई। अध्यक्ष पद के दावेदार के तौर पर वार्ड 11 से पार्षद व पूर्व सभापति रहे जैनेंद्र ने पर्चा दाखिल किया। वही वार्ड 20 के पार्षद विजय सिंह ने भी अध्यक्ष पद की दावेदारी की। मतदान में 14 पार्षदों ने जैनेंद्र आर्य के पक्ष में वोटिंग की। 10 पार्षदों ने विजय सिंह के पक्ष में वोटिंग की। 4 वोटों के अंतर से से बहुमत हासिल कर जैनेंद्र आर्य मुख्य पार्षद बने। बता दें कि नगर परिषद क्षेत्र में कुल 25 वार्ड क्षेत्र हैं। वार्ड 21 की पार्षद, पूर्व सभापति रही उर्मिला देवी के निधन से उनका वार्ड क्षेत्र इस सभापति के चुनाव में प्रतिनिधित्व विहीन रहा।

चार चरणों में रही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था
समाहरणालय के मुख्य द्वार पर भभुआ बीडीओ बतौर दंडाधिकारी शशिकांत शर्मा को तैनात रहे। इनके साथ 2-8 की सशस्त्र बल एवं 10 लाठी बल भी मौजूद था। कुदरा बीपीआरओ रंजीत कुमार मुख्य भवन के प्रवेश द्वार पर बतौर दंडाधिकारी तैनात रहे।इनके अतिरिक्त जिला कल्याण पदाधिकारी ललन ऋषि व भगवा बाल विकास परियोजना पदाधिकारी शशिकला कुमारी को भी दंडाधिकारी बनाया गया था।

ये हैं नप के पार्षद जिन्होंने निर्वाचन में हिस्सा लिया

नाम वार्ड उर्मिला देवी- 1 शकुतला देवी- 2 मेनका कुमारी- 3 त्रिभुवन सिंह- 4 उर्मिला देवी- 5 मकसूदन राम- 6 मनोज कुमार सिंह- 7 राकेश कुमार- 8 संजय कुमार माली- 9 बदरूद्दीन राईन- 10 प्रीति कुमारी- 11 जैनेंद्र कुमार आर्य- 12 (सभापति बने) नाम वार्ड उत्तम कुमार चौरासिया- 13 मीना देवी- 14 अनवरी बेगम- 15 नाहिदा परवीन- 16 ( उप सभापति) इस्लाम अंसारी- 17 मुन्ना प्रसाद गुप्ता- 18 प्रह्लाद गोंड- 19 विजय सिंह- 20 फरह नाज- 22 कौशर बेगम- 23 दिनेश कुमार गुप्ता- 24 रमेंद्र कुमार आकाश- 25

खबरें और भी हैं...