सावधानी बरतें:फिर मुसीबत बन रहा कोरोना, गांवों की ओर पांव पसार रहा, 11 नए संक्रमित मिले

भभुआ14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना जांच के लिए सैंपल लेती तकनीशियन। - Dainik Bhaskar
कोरोना जांच के लिए सैंपल लेती तकनीशियन।
  • पिछले 24 घंटों के भीतर कुल 3276 संदिग्धों की सैम्पल की आई रिपोर्ट में 3265 लोग कोरोना नेगेटिव आए

तीसरे स्टेज में जिले में संक्रमण की दस्तक के बाद अब कोरोना संक्रमण के पांव गांवों की ओर बढ़ रहा है। जिले में संक्रमण के बढ़ते केस के बीच फिर 11 नए संक्रमित मरीज मिले हैं।संक्रमित मिले कुल 11 लोगों में से 7 लोगों की रिपोर्ट आरटीपीसीआर से जबकि 4 लोगों की ट्रू नेट से आई जांच रिपोर्ट में कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।जिला स्वास्थ्य समिति से शुक्रवार को जो रिपोर्ट जारी की गई उसके मुताबिक पिछले 24 घंटों के भीतर कुल 3276 संदिग्धों की ली गई सैम्पल की रिपोर्ट आई।

जिसमें 3265 लोग कोरोना नेगेटिव आए जबकि 11 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव होने की आई।जानकारी देते हुए जिला स्वास्थ्य समिति के इम्यूनाइजेशन पदाधिकारी मधुसूदन कुमार ने बताया है कि पॉजिटिव आए लोगों में भभुआ प्रखंड इलाके के 5 जबकि भगवानपुर के एक, चांद के 3 जबकि दो मोहनिया इलाके के रहने वाले हैं।कुल 11 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सभी का इलाज़ होम आइसुलेशन में चल रहा है। इधर,जिला स्वास्थ्य समिति की रिपोर्ट बताती हैं कि तीसरे स्टेज में जिले में एक मरीज जो संक्रमित हुआ था शुक्रवार को स्वस्थ हुआ है।

जिले में अब कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 27 हुई
जिला स्वास्थ्य समिति से प्राप्त रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार जिले में संक्रमण के तीसरे स्टेज में अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 37 हो गई है। इधर,जिला प्रशासन की नसीहत है कि आमजन बिना मास्क चेहरों पर लगाये घरों से बाहर न निकलें।

अब तक 11.97 लाख संदिग्धों की कर चुकी है सैम्पल जांच
जिला स्वास्थ्य समिति से मिले आंकड़े बताते हैं कि जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की फर्स्ट और सेकंड वेब के बाद अब तीसरी लहर के अनुमान के बीच अब तक कुल 11 लाख 97 हज़ार 010 संदिग्धों की सैम्पल लेकर जांच की जा चुकी है।

तेजी से बढ़ रही कोरोना संक्रमण पर प्रशासन अलर्ट, सदर अस्पताल पहुंचे डीडीसी
कोरोना की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है। शुक्रवार को उप विकास आयुक्त कुमार गौरव ने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। डीडीसी ने ऑक्सीजन की उपलब्धता की जानकारी ली। ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को दुरुस्त रखने की भी हिदायत दी। वहीं सभी प्रबंध के बावजूद अब तक ऑक्सीजन प्लांट चालू नहीं होने पर नाराजगी भी जताई। हालांकि प्लांट के 80 फीसद कार्य पूरे किए जा चुके हैं। लेकिन कुछ तकनीकी परेशानियों के चलते अब तक ऑक्सीजन प्लांट चालू नहीं हो सका है।

इस पर उप विकास आयुक्त ने नाराजगी जाहिर की।कोरोना जांच के लिए ट्रू नेट जांच केंद्र,आरटीपीसीआर जांच केंद्र का भी जायजा लिया। डीडीसी ने भास्कर से बातचीत करते हुए कहा कि संक्रमण की दर बढ़ रहा है। प्रशासनिक महकमा अलर्ट है। प्रभारी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी व अस्पताल के बीएचएम ऋषिकेश ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए तैयारियां तेजी से पूरी की जा रही हैं। ऑक्सीजन की फिलहाल पर्याप्त उपलब्धता है। 100 से अधिक सिलेंडर ऑक्सीजन अभी हाल ही में उपलब्ध हुआ है।

खबरें और भी हैं...