सख्ती:पुराने वाहनों को सड़क पर चलाना महंगा हुआ, नवीनीकरण शुल्क में 8 गुणा वृद्धि

भभुआएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुराने वाहन - Dainik Bhaskar
पुराने वाहन
  • एक अप्रैल 2022 से नए नियम होंगे लागू, बस ट्रक का रजिस्ट्रेशन शुल्क भी हुआ महंगा
  • पुराने वाहनों के रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल सर्टिफिकेट के लिए नोटिफिकेशन जारी

सड़क पर अब पंद्रह साल पुरानी बाइक कार चलाना महंगा पड़ेगा। क्योंकि सरकार ने नए नियम के तहत इनके कागजातों के नवीनीकरण शुल्क में आठ गुना तक की वृद्धि कर दी है। नए नियम के मुताबिक वाहन मालिक अपनी 15 साल से पुरानी कार के रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल के लिए अगले वित्तीय वर्ष यानी एक अप्रैल से 5,000 का भुगतान करना होगा। यह वर्तमान शुल्क से आठ गुना अधिक है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने पुराने वाहनों के रजिस्ट्रेशन के रिन्यूअल सर्टिफिकेट के लिए एक नोटिफिकेशन जारी किया है। यह नया नियम नेशनल स्क्रैप पॉलिसी का हिस्सा है। केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी वाहन कबाड़ रणनीति के तहत स्क्रेपिंग सेंटर स्थापित किए जा रहे हैं।सरकार की मंशा है कि भारत की सड़कों से जल्द से जल्द कंडम गाड़ियां हटा दी जाए।इससे प्रदूषण पर नियंत्रण होगा और साथ ही सड़कों पर रेंगने वाली गाड़ियों की समस्या से निजात भी मिलेगी।पंद्रह साल पुरानी बाइक के रजिस्ट्रेशन का रिन्यूअल का शुल्क मौजूदा समय में 300 रुपए है। नया नियम लागू होने के बाद रजिस्ट्रेशन का रिन्यूअल कराने के लिए 1,000 लगेगा। जबकि कार का रजिस्ट्रेशन रिनुअल करने का मौजूदा शुल्क 500 है। नए नियम के मुताबिक अब 5,000 शुल्क देना होगा। पुराने गाड़ियों के लिए रजिस्ट्रेशन का रिन्यूअल कराना अब लोगों को महंगा पड़ेगा।

फिटनेस रिन्यूअल सर्टिफिकेट बनाना हुआ महंगा
पंद्रह साल पुराने बस या ट्रक का भी रजिस्ट्रेशन रिन्यूअल कराने के लिए अब अधिक शुल्क अदा करना होगा। बस या ट्रक के लिए फिटनेस रिन्यूअल सर्टिफिकेट का वर्तमान कुल 1,500 है। नए नियम के तहत बस ट्रक का फिटनेस रिन्यूअल सर्टिफिकेट बनाने के लिए 12,500 देना होगा। इसके अलावा मझोले मालवाहक या यात्री मोटर वाहन के मामले में यह10,000 तय किया गया है। इंपोर्ट की गई बाइक और कारों के रजिस्ट्रेशन का रिन्यूअल कराने पर बाइक के लिए 10,000 और कार के लिए 40,000 खर्च करने होंगे।

सड़क परिवहन मंत्रालय की ओर से जारी किए गए निर्देश
केंद्र सरकार लगातार सड़कों पर सुरक्षा के साथ वाहनों की रफ्तार बढ़ाने की कवायद में जुटी हुई है।देश में तेजी से सपाट सड़कों का निर्माण जारी है।ट्रैफिक पर दबाव कम करने के लिए ओवर ब्रिज सपोर्टिंग ब्रिज आदि बनाए जा रहे हैं। सरकार पुराने वाहनों को रिटायर करने की दिशा में कई नियम में बदलाव कर रही है। जिसके तहत पन्द्रह साल से पुराने वाहन सड़कों से जल्द से जल्द हटाए जाने की नीति पर काम हो रहा है।नए नियम से संबंधित अधिसूचना सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने जारी कर दी है।

नई गाड़ी खरीदने पर रजिस्ट्रेशन शुल्क होगा माफ
केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी स्क्रेपिंग पॉलिसी से लोगों को भी फायदा होगा। इसके तहत लाखों रोजगार के मौके सृजित होंगे। नियमानुसार पुराने वाहन को स्क्रैप कराने पर एक सर्टिफिकेट मिलेगा। इसे दिखाकर नई गाड़ी खरीदने पर रजिस्ट्रेशन शुल्क माफ हो जाएगा। रोड टैक्स में भी डिस्काउंट दिया जाएगा।इससे गाड़ी मालिक को पुरानी गाड़ी का मेंटेनेंस कॉस्ट रिपेयरिंग कॉस्ट और कम माइलेज से होने वाले नुकसान से छुटकारा मिलेगा।

खबरें और भी हैं...