सरकारी योजना:फलों की खेती करने वाले किसान को मिलेगा अनुदान

भभुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पपीता के पौधे दिखाते किसान - Dainik Bhaskar
पपीता के पौधे दिखाते किसान
  • सरकार का मुख्य उद्देश्य है कि राज्य में जल-जीवन- हरियाली अभियान को बल मिले

जिले के उन किसानों के लिए अच्छी खबर है जो फलदार पौधे की खेती करने के इच्छुक हैं। उद्यान विभाग के मुख्यमंत्री सघन बागवानी मिशन योजना के तहत आम पपीता व केला की खेती करने वाले किसान को भी अनुदान दिया जाएगा। इसके लिए विभाग की ओर से लक्ष्य निर्धारित किया गया है। निजी जमीन पर 20 हेक्टेयर में आम का बगीचा लगेगा। इस योजना के पीछे सरकार का मुख्य उद्देश्य है कि जल जीवन हरियाली अभियान को भी बल मिले। दरअसल जल जीवन हरियाली योजना को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार के निर्देशानुसार उद्यान विभाग द्वारा किसानों को बागवानी के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

किसान अपनी निजी जमीन में भी बागवानी कर सकते हैं।पौधे लगाने वाले किसानों को 50% तक अनुदान भी दिया जाएगा। इसके तहत सरकार द्वारा सघन बागवानी मिशन का संचालन किया जा रहा है।बागवानी मिशन योजना किसानों के लिए काफी लाभदायक एवं उपयोगी है। इसके जरिए किसान आर्थिक रूप से संपन्न हो सकते हैं। इस योजना के तहत फलदार पौधे लगाने के एवज में लागत राशि का 50 फीसद अनुदान देने का प्रावधान सरकार ने तय किया है।

एक हेक्टेयर के लिए 400 पौधे 70 रुपए की दर से दिए जाएंगे
एक हेक्टेयर के लिए 400 पौधे 70 रुपए की दर से दिए जाएंगे। कुल पौधे की कीमत 28,000 होगी। जिसे अनुदान की राशि से काट लिया जाएगा। शेष 2000 किसानों के खाते में जाएगी। इसलिए कि इसमें बिचौलियों का दखल नहीं हो। पहले वर्ष में 60 फ़ीसदी यानी 30,000 अनुदान मिलेगा। जो किसान इस योजना का लाभ लेना चाहेंगे उन्हें पारदर्शिता के साथ लाभ दिया जाएगा। किसानों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो इसका भी ख्याल रखा जाएगा।

पहले साल में 75 फ़ीसदी तो दूसरे साल में 25 फ़ीसदी अनुदान
पहले साल में 75 फ़ीसदी तो दूसरे साल में 25 फ़ीसदी अनुदान दिया जाएगा। सभी अनुदान की राशि लाभुक किसान के खाते में दी जाएगी। जबकि दूसरे साल में 10000 और तीसरे साल में भी 10000 सब्सिडी मिलेगी।पर शर्त यह है कि पौधे 90 फ़ीसदी सुरक्षित रहने चाहिए।इसी तरह केला के बाग लगाने पर प्रति हेक्टेयर 62,500 खर्च होगा।पहले साल में पौधे लगाने और देखरेख के लिए 75 फ़ीसदी अनुदान दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...